बशर्ते, बच्चे का ये VIDEO काफी है मामा शिवराज की आंखे खोलने के लिए

रीवा :मामा शिवराज के राज्य मध्यप्रदेश से ऐसा वीडियो वायरल हुआ है जो उनकी आंखें खोलने के लिए काफी है। ये वीडियो बता देगा कि प्रदेश में मामा के राज में राज्य में शिक्षा का स्तर क्या है, गरीबों का हाल क्या है, किसानों के लिए उन्होंने क्या किया और सामान्य श्रेणी के बच्चे किस कदर त्रस्त हैं। ये वीडियो नहीं बल्कि एक होनहार की दर्द भरी दास्तां है जिसने सूबे के सिस्टम पर तमाचा जड़ा है।

कहते हैं ‘बच्चे भगवान का रूप होते हैं, वो कभी झूठ नहीं बोलते और न ही उन्हें कोई लालच होता है’। सीएम साहब पर या राज्य सरकार पर अगर कोई आरोप लगे, तो बदले में सरकार कहती है कि ये झूठ है, सत्ता में आने के लिए विपक्ष बे-बुनियाद आरोप लगा रहा है। लेकिन बच्चे के इस वीडियो ने सीएम शिवराज की योजनाओं की पोल खोल दी है।

दरअसल यह वीडियो जिला रीवा के रहने वाले नीलकंठ दूबे का है। नीलकंठ ट्रेन में अखबार बेचकर अपने परिवार का भरण-पोषण करता है। लेकिन उसकी स्थिती दर्दभरी है। जब वह तीन या चार साल का था तो उसके पिता का देहांत हो गया। उसके घर में उसके दो बड़े भाई और मां है।

पढ़ाई के लिए करना पड़ रहा ये सब
नीलकंठ पढ़ना चाहता है आगे बढ़ना चाहता है। अभी उसने 93 प्रतिशत अंकों के साथ पांचवी कक्षा पास की है। उसे छठी में दाखिला लेना जिसके लिए वह अखबार बेचकर रहा है। नीलकंठ का कहना है कि अब तक उसके पास 5030 रुपए इकट्ठे हो गए हैं, लेकिन उसे और पैसों की जरूरत है।



तीनों भाई हैं होनहार
नीलकंठ और उसके दोनों भाई पढ़ाई में होनहार हैं। उसका कहना है कि उसके सबसे बड़े भाई प्रशांत दूबे का हाल ही में परिणाम आया जिसमें उसने 96 प्रतिशत अंक प्राप्त किए और उसके दूसरे भाई ने 83 प्रतिशत अंक। नीलकंठ ने बताया कि उसके भाई की पढ़ाई को देखते हुए उसे गोद ले लिया था और अब उसका सारा खर्च सरकार उठाएगी। अब उसे चिंता है तो अपनी और अपने भाई की पढ़ाई की।

सामान्य श्रेणी बनी अभिशाप
देश में शुरू से ही आरक्षण के मुद्दे उठते आ रहे हैं। आरक्षण की वजह से कई प्रदर्शन हुए। इसका प्रभाव यहां भा देखने को मिला। दरअसल नीलकंठ ने 5वीं कक्षा में 93 प्रतिशत अंक प्राप्त किए वह सामान्य श्रेणी से इसलिए उसे की स्कॉलरशिप भी नहीं मिला। नीलकंठ का दावा है कि भी उसे कक्षा एक से दसवीं तक का और देश के किसी भी क्षेत्र से जुड़ा प्रशन पूछेगा तो वह बेझिझक उसका सही जवाब दे सकता है। बावजूद इसके उसे इन परिस्थितियों से गुजरना पड़ रहा है।

यहां कोई नहीं है सुनने वाला
इस दौरान जब नीलकंठ से उच्च अधिकारियों से इस बारे में बात करने के बारे में पूछा तो उसका कहना था कि यहां कोई बात करने वाला नहीं हैं और अगर किसी से बात की भी तो उसका कुछ फायदा नहीं है।

किसानों के मुद्दे पर सीएम को घेरा
नीलकंठ ने किसानों को मुद्दे पर सीएम शिवराज को जमकर घेरा। यहीं नहीं उसने सीएम के बारे में असलियत उगलते हुए सिस्टम पर जमकर लताड़ लगाई। हालांकि यह वीडियो एक साल पुराना बताया जा रहा है। जो अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

Related Stories:

RELATED 'कन्फ्यूज' राहुल गांधी पर शिवराज के बेटे ने कोर्ट में दायर कराया मानहानि का केस