Kundli Tv- इस दिशा में है घर की सीढ़ियां, तो होगी दिन दुगनी रात चौगुनी तरक्की

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)
सावन का महीना बारिश के लिए जाना जाता है। इस महीने में हर जगह जमकर बारिश होती है। इसी बारिश का मज़ा लेने के लिए बच्चे-बूढ़े सभी अपने घरों के छतों आदि पर जाकर इसका मज़ा उठाते हैं। अब बात आती है सीढ़ियों की, घर की तपर जाने के लिे हर घर में सीढ़ी तो बनी हो होती है। लेतिन क्या आप जानते हैं कि आपके घर की सीढ़ी केवल इन्हीं कामों के लिए ही उपयोग नहीं होती। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की सीढ़ियां ही वहां रहने वाले लोगों को तरक्की की ओर ले जाती है। आईए जानते हैं इससे संबंधित कुछ बातें- 

 PunjabKesari
वास्तुशास्त्र के अनुसार सीढ़ियों का निर्माण उत्तर से दक्षिण की ओर या पूर्व से पश्चिम दिशा की ओर करवाना चाहिए। अगर आप अपने घर में पूर्व दिशा की ओर से सीढ़ी बनवा रहे हों तो इस बात का ध्यान रखें कि सीढ़ी पूर्व दिशा की दीवार से लगी हुई नहीं हो। पूर्वी दीवार से सीढ़ी की दूरी कम से कम तीन इंच होने पर घर वास्तु दोष से मुक्त होता है।
PunjabKesari

सीढ़ी के लिए दक्षिण पश्चिम दिशा उत्तम होती है। इस दिशा में सीढ़ी होने पर घर प्रगति ओर अग्रसर रहता है। वहीं ईशान कोण में सीढ़ियों का निर्माण नहीं करना चाहिए। इससे आर्थिक नुकसान, स्वास्थ्य की हानि, नौकरी एवं व्यवसाय में समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस दिशा में सीढ़ी का होना अवनति का प्रतीक माना गया है। दक्षिण पूर्व में सीढ़ियों का होना भी वास्तु के अनुसार नुकसानदायक होता है। इससे बच्चों के स्वास्थ्य उतार-चढ़ाव बना रहता है।
PunjabKesari

ग्राउंड फ्लोर पर रहने वाले और किरायेदारों को ऊपरी मंजिल पर रखने वाले उन्हें मुख्य द्वार के सामने सीढ़ियों का निर्माण नहीं करना चाहिए। वास्तु विज्ञान के अनुसार इससे किरायेदार दिनोदिन उन्नति करते और मालिक मालिक की परेशानी बढ़ती रहती है।
PunjabKesari

उपाय
सीढ़ियों के आरंभ और अंत में द्वार बनवाएं। सीढ़ी के नीचे कभी भी जूते-चप्पल और घर का बेकार सामान न रखें।
मिट्टी के बर्तन में बरसात का जल भरकर उसे मिट्टी के ढक्कन से ढंक दें। इसे सीढ़ी के नीचे मिट्टी में दबा दें। माना जाता है ति इससे सीढ़ियों से संबंधित दोष दूर हो जाता है। 
Kundli Tv- जानें, भगवान शिव के गले में पहनी मुण्डों की माला का राज़...(देखें Video)

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!