कछुआ भी बदल सकता है आपके घर का वास्तु, जानें कैसे

ये नहीं देखा तो क्या देखा(video)
कछुआ का प्रतीक एक प्रभावशाली यंत्र है, जिससे वास्तु दोष का निवारण होता है तथा जीवन में खुशहाली आती है। कछुए को घर में रखने से कामयाबी के साथ-साथ धन-दौलत का भी आगमन होता है। सनातन धर्म में कछुए को कूर्म अवतार अर्थात भगवान विष्णु का कच्छप रूप कहा गया है। कछुआ भगवान विष्णु का दूसरा अवतार है। पद्म पुराण के अनुसार  भगवान विष्णु ने समुद्र मंथन के समय मंद्रांचल पर्वत को अपने कवच पर थामा था। हिंदू धर्म में इन्हें घर में स्थापित करना और उनकी पूजा-अर्चना करना बहुत शुभ माना जाता है। कहते हैं जहां कछुआ होता है, वहां लक्ष्मी हमेशा रहती हैं। कछुए को घर में रखने से ढेरों लाभ प्राप्त होते हैं-


इसे अपने ऑफिस या घर की उत्तर दिशा में रखें। संभव न हो तो इसे घर की पूर्व दिशा में भी रखा जा सकता है।

घर में कछुआ रहने से फैमिली में प्यार और अपनापन बना रहता है।

कछुए के प्रतीक को कभी भी बेडरूम में न रखें।

कछुआ की स्थापना के लिए सबसे बढ़िया स्थान ड्राईंग रूम है।

घर में कछुए की प्रतिमा रखने से हवा एवं जल के सभी दोष खत्म होते हैं और सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है।

जिस घर में कछुए की प्रतिमा या जीता जागता कछुआ होता है, उसके घर में अकाल मृत्यु की संभावना नहीं रहती तथा हर प्रकार से सुख-समृद्धि बनी रहती है।

बांझपन के दोष को भी कछुआ दूर करता है।

जब कोई नया कारोबार शुरू करें तो अपनी दुकान या ऑफिस में चांदी को कछुआ रखें, इससे धन आने के साधन बनते रहेंगे।
कब है मकर संक्रांति 14 या 15, जानिए क्यों खाई जाती है इस दिन खिचड़ी ?(video)
 

Related Stories:

RELATED Vastu Tips: सही दिशा में रखें कछुआ, घर में बनी रहेगी सुख-शांति व होगा धन लाभ