डीयू के कई पाठ्यक्रमों में बदलाव सीबीसीएस वर्तमान सत्र से

नई दिल्ली: दिल्ली विश्वविद्यालय से संबंधित कॉलेजों में साल 2015 में अंडर ग्रेजुएट कोर्सेज में सीबीसीएस पाठ्यक्रम लागू होने के बाद यूजीसी के निर्देशानुसार इसे अब पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सेज में भी लागू किया जाएगा। हाल ही में सीबीसीएस पाठ्यक्रम को लागू करते हुए डीयू से पहला बैच ग्रेजुएट पूरा करके निकला है। 

                                                      
बता दें कि एकेडेमिक मैटर को देखने वाली स्टैंडिंग कमेटी की 20 और 24 अगस्त को इस विषय पर मीटिंग हुई थी, इसमें पोस्ट ग्रेजुएट के 30 से अधिक पाठ्यक्रमों को पास किया गया। अब अगली मीटिंग 28 अगस्त को होनी है। सीबीसीएस पद्धति के अनुसार यह पाठ्यक्रम साल 2018-19 के प्रथम सेमेस्टर से लागू किया जाएगा। 

दिल्ली विश्वविद्यालय की विद्वत परिषद के सदस्य प्रो. हंसराज सुमन ने बताया कि सभी विभागों ने पोस्ट ग्रेजुएट पाठ्यक्रम को यूजीसी द्वारा निर्मित एवं डीयू द्वारा चार सेमेस्टर के चयन आधारित के्रडिट पद्धति के अंतर्गत संपूर्ण पाठ्यक्रम तथा मूल्यांकन पद्धति को तैयार किया गया है। जिसे डीयू के नियमों के अनुसार लागू किया जाएगा, इसके अनुसार प्रत्येक छात्र को उत्तीर्ण होने के लिए एमए, एमकॉम और एमएससी उपाधि के अंतर्गत जो विभाग ने क्रेडिट निर्धारित किए हैं उसे छात्रों को अर्जित करना होगा। 

उन्होंने बताया कि ग्रेजुएट पाठ्यक्रम के अंतर्गत जो क्रेडिट दिए गए हैं उसे छात्रों को विकल्प चुनने की च्वाइस दी गई है। 28 अगस्त को होने वाली स्टैडिंग कमेटी की मीटिंग में लगभग 35 विषयों को रखा जाएगा और उन पर गहन चर्चा होगी।          
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!