देश में असहिष्णुता का सबसे बड़ा शिकार हुए नरेंद्र मोदी: उमा भारती

झांसी: उत्तर प्रदेश के झांसी-ललितपुर क्षेत्र से सांसद और केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा है कि देश मे असहिष्णुता का सबसे बड़ा शिकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बने हैं।  यहां एक स्थानीय होटल में शु्क्रवार को व्यापारियों से मन की बात करने आई केंद्रीय मंत्री ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा ‘‘ देश मे अगर असहिष्णुता के शिकार की बात की जाएं तो प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी इसके सबसे बडे शिकार बनें। वामपंथी बुद्धिजीवियों की असहिष्णुता का शिकार मोदी जी हुए,विरोधी दलों की असहिष्णुता का भी सबसे बड़ा शिकार मोदी जी हुए।

उमा भारती ने साधा विपक्षी दलों पर साधा
भारती ने कहा कि विपक्षी दलों के नेताओं के बयानों को बताया गया कि वह उनके निजी बयान हैं लेकिन हमारे संगठन से सीधी जुड़ाव नहीं रखने वाले किसी व्यक्ति विशेष ने देश में कहीं भी कोई घटना कर दी या बयान दिया तो उसका जवाब सीधे संसद में प्रधानमंत्री से मांगा गया। हद तो यह हो गई कि इसको लेकर संसद भी नही चलने दी गई। ऐसे लोगों को जनता सबक सीखाएगी। ऐसे लोगों को घर बैठाना पडेगा ,ऐसे लोग राजनीति करने लायक नहीं हैं।’’ विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए भारती ने कहा कि देश की राजनीति में एक बहुत बड़ी समस्या तुष्टिकरण की राजनीति, वोट बैंक की राजनीति की है।

देश के विभाजन का हीं था कोई आधार
भारती ने कहा किविपक्षी दल आतंकवाद और पाकिस्तान के मुद्दे पर इस तरह बयान देते हैं कि देश का मुस्लिम मतदाता उनसे नाराज न हो। आतंकवाद जितना बढावा मिला उसमें हमारे विरोधी दलों की बयानबाजी की भी बहुत बडी भूमिका है।  कांग्रेस पर हमला करते हुए भारती ने कहा कि धर्म के आधाार पर देश का विभाजन कांग्रेस ने किया । उस समय मोदी जी तो पैदा भी नहीं हुए थे जब देश को धर्म के आधार पर कांग्रेस ने बांटा। देश के विभाजन का और कोई आधार नहीं था गरीबी एक जैसी थी,भ्रष्टाचार एक जैसा था ,शोषण एक जैसा था और संस्कृति एक जैसी थी केवल धर्म ही एक नहीं था और जिन्ना ने इसी आधार पर अलग देश की बात की थी और कांग्रेस ने अल्ससंख्यकों का तुष्टिकरण करने के लिए ऐसी बातों को बढावा दिया था। 

Related Stories:

RELATED फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ का दूसरा पोस्टर जारी करेंगे अमित शाह