इंस्टाग्राम पर क्यों दिखता है मोदी व राहुल गांधी का विनम्र चेहरा

नई दिल्ली: ट्वीटर तथा फेसबुक पर जहां राजनीति से जुड़ी बातें होती हैं वहीं इंस्टाग्राम पर वे मानवीय, विनम्रता व दयालुता से जुड़े कामों को शेयर करते हैं। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी पिछले दिनों जब मेट्रो से इस्कान मंदिर जा रहे थे तो पास में अपने पिता की गोद में बैठे एक बच्चे से खेलती उनकी कुछ सेकंड की वीडियो इंस्टाग्राम पर डाली गई थी। थोड़े ही समय में वायरल हो गई इस वीडियो को 85 लाख लोगों ने देखा। इंस्टाग्राम पर नेताओं ने अलग रणनीति अपना रखी है। यहां उनकी मीडिया टीम नेता के आंतरिक मानवीय पक्षों से जुड़ी चीजों को चुनाव के दौरान प्रचार समाग्री के रूप में इस्तेमाल कर रही है। मोदी राहुल जैसे नेताओं की मानवीय छवि को बनाने में इंस्टाग्राम का इस्तेमाल किया जा रहा है। इंस्टाग्राम पर नेताओं ने राजनीति तथा प्रचार के लिए उपलब्धियों का बखान वाले स्टेटमेंट को बहुत तरजीह नहीं दे रहे हैं। यहां संबंधों, करूणा विनम्रता पर फोकस रखा गया है जो कि फेसबुक तथा ट्वीटर से बिल्कुल भिन्न है। 


2014 के चुनाव में हुआ सोशल मीडिया का हुआ था खुलकर इस्तेमाल
वर्ष 2014 के चुनाव में पहली बार सोशल मीडिया का खुलकर इस्तेमाल शुरु हुआ था। ट्वीटर, फेसबुक व इंस्टाग्राम युवा मतदाताओं को रूझान को तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। नरेन्द्र मोदी ने जिस समय प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लिया था तब उनके फेसबुक पर एक करोड़ चालीस लाख लाइक्स थे। वे ओबामा के बाद दुनिया के सबसे अधिक फालो किये जाने वाले नेता थे। इसी तरह ट्वीटर पर भी वे दुनिया के छठे सबसे लोकप्रिय नेता थे। तब से इन पांच सालों में सोशल मीडिया पर लगातार उनकी छवि गढऩे का काम चल रहा है। फेसबुक ट्वीटर के अलावा, इंस्टाग्राम, वाट्सऐप तथा यूट्यूब को भी राजनैतिक संदेश देने के लिए भरपूर इस्तेमाल किया जा रहा है। एक लिहाज से 2019 के चुनाव को इंस्टाग्राम का चुनाव भी कहा जा सकता है।

मोदी हैं दुनिया के सबसे अधिक लोकप्रिय नेता
 नरेन्द्र मोदी दो करोड़ फालोअर्स के साथ इंस्टाग्राम पर दुनिया के सबसे अधिक लोकप्रिय नेता हैं यह अलग बात है कि इंस्टाग्राम पर उनकी पहली पोस्ट 12 नवंबर 2014 को आई थी। अब तक वे यहां कुल 300 पोस्ट डाल चुके हैं। इसमें से अधिकांश में उन्होंने युवाओं को संबोधित किया है। इसी तरह कांग्रेस अध्यक्ष राहुलगांधी का इंस्टाग्राम पेज उनकी छवि को अधिक दिखाता है उनके राजनीतिक पहलू की तुलना में। राहुलगांधी ने मोदी से सात महीना पहले इंस्टाग्राम पर अपना एकाउंट खोला था लेकिन यहां अभी तक उनके सिर्फ 693000 फालोअर्स ही हैं। राहुल गांधी इंस्टाग्राम में या तो बच्चों के बीच हैं या बुजुर्गों से आशीर्वाद लेती तस्वीरे पोस्ट की हुई हैं। 

निखिल अल्वा करते हैं राहुल गांधी के इंस्टग्राम एकाउंट
राहुल गांधी के इंस्टग्राम एकाउंट मैनेज करने वाले निखिल अल्वा बताते हैं कि यह प्लेटफार्म दूसरे सोशल मीडिया की तुलना में ज्यादा व्यकिगत है। इस पर ज्यादातर युवा लोग हैं। यहां लोग नेताओं के भाषण या चुनावी रैलियों की तस्वीरे देखने में रुचि नहीं लेते हैं। वे बताते हैं कि राहुल गांधी के इंस्टाग्राम पोस्ट को देखकर कोई समझ सकता है कि उनकी सोच कैसी है तथा उनका मानवीय पहलू कैसा है। हम यहां विपक्षी दलों की आलोचना करके राजनैतिक फायदे के मकसद से कोई पोस्ट नहीं डालते हैं। कुछ बुजुर्गो के साथ उनकी एक तस्वीर का कैप्शन है, ‘दिल की बात पूछते हैं, मन की बात नहीं थोपते।’ ऐसे ही एक अन्य तस्वीर जिसमें राहुल गांधी एक बुजुर्ग से बात कर रहे हैं, नीचे कैप्सन लिखा है, ‘लोकतंत्र में बातचीत जरुरी है। हमारे प्रधानमंत्री सोचते हैं कि उनके पास हर बात का उत्तर है। मैं लोगों की आवाज सुनने में भरोसा करता हूं और उसके साथ ही मिलकर समस्या का हल निकालता हूं। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने इंस्टाग्राम अपने निजी जीवन से जुड़ी पोस्ट डाल रखी है। वे अक्सर मजाकिया पोस्ट डालने से भी नहीं हिचकती हैं। वे सोशल मीडिया पर निजी व सार्वजनिक जीवन को पूरी तरह अलग रखती हैं। 

Related Stories:

RELATED जब राहुल गांधी के रोड शो में लगे ''चौकीदार प्योर है उसका आना श्योर है'' के नारे