तुलसी तोड़ने से पहले ज़रूर कर लें ये काम, वरना...

ये नहीं देखा तो क्या देखा (VIDEO)
वैसे तो हिंदू धर्म में बहुत से पौधों का महत्व है, लेकिन तुलसी के पौधे की मान्यता कुछ अलग ही है। धार्मिक और ज्योतिष शास्त्र में इस से जुड़े बहुत से तथ्य बताए गए हैं। यही कारण है कि लगभग हर घर में तुलसी का पौधा होता ही है। मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु को तुलसी अधिक प्रिय है। इसी के साथ वैज्ञानिक की मानें तो तुलसी के पत्ते एंटीबायोतिक के रूप में भी प्रयोग होता है। ज्योतिष और वैज्ञानिक दोनों में कहा गया है कि सुबह-सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से स्वास्थ्य में तेज़ी आती है।


इसके फायदों के बारे में तो बहुत से लोग जानते होंगे लेकिन तुलसी कुछ स्थितियों में खतरनाक भी साबित हो सकती है। जी हां, आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन कुछ हालातों में तुलसी हानिकारक साबित होती हैं।

आइए जानते हैं कैसे-
ग्रंथों में कहा गया है कि भगवान के भोग में तुलसी के पत्ते का होना बहुत ज़रूर होता है। कहते हैं कि विष्णु जी को तुलसी के पत्ते के बिना भोग नहीं लगाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार बिना मंत्र बोले तुलसी के पत्ते तोड़ने से आपको श्राप मिल सकता है।

माना जाता है की तुलसी पर बिना मंत्र बोले जल अर्पित नहीं करना चाहिए और न ही बिना मंत्र बोले तुलसी के पत्ते तोड़ने चाहिए। अगर बिना मंत्रों का जाप किए तुलसी पर जल अर्पित किया जाए या इसका पत्ते तोड़ा जाए तो ऐसा करने से अशुभ फल की प्राप्ति होती है।

इसलिए शास्त्रों में कुछ मंत्र बताए गए हैं जो तुलसी पर जल अर्पित करते समय या तुलसी के पत्ते तोड़ते समय बोलने चाहिए। कहा जाता है कि इससे सुख-समृद्धि और धन-संपदाव तुलसी मैय्या का आशीर्वाद बना रहता है।

तुलसी के पत्ते तोड़ने से समय इन मंत्रों का जाप करें-
ॐ मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी,
नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते ।।


महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी,
आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते।।
राशिनुसार जानें, कौन से color की बिंदी लगाना आपके लिए रहेगा lucky ? (VIDEO)

Related Stories:

RELATED होली के दिन भूलकर भी न कर लें ये काम वरना...