पढ़ाई में शामिल हों यातायात नियम : पुलिस आयुक्त

नई दिल्ली: ट्रैफिक नियम को स्कूलों की पाठ्यक्रम में जोडऩा चाहिए। ताकि बच्चों को बचपन से ही ट्रैफिक नियम के बारे में पता हो ताकि वो अपने अभिभावक को भी जागरूक कर सके।

 

साथ ही छात्रों को अनुशासन का भी ज्ञान दिया जाए। ताकि वो आने वाले दौर के लिए एक रोल मॉडल के रूप में जाने जाए। उक्त बात इंडिया गेट पर आयोजित पेंटिग प्रतियोगिता में मुख्य अतिथि पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने कहीं। रोड सेफ्टी विषय पर आयोजित पेटिंग प्रतियोगिता 40 स्कूलों में से 1100 छात्रों ने हिस्सा लिया। इस मौके पर ट्रैफिक पुलिस के स्पेशल कमिश्नर ताज हसन, ज्वाइंट कमिश्नर अलोक कुमार मौजूद रहे। जामिया मिल्लिया इस्लामिया क फैकल्टी मेंबर्स की जूरी ने विजेताओं का चयन किया। इस दौरान मिडिल और सीनियर कैटिगरी के विजेताओं को पुलिस कमिश्नर ने अवार्ड देकर सम्मानित किया। साथ ही वर्ष 2018 में स्कूलों में चलाए जाने वाले ट्रैफिक पुलिस के रोड सेफ्टी अवेयरनेस कैंपेन के विजेताओं को भी सम्मानित किया गया। 

 

अशोक विहार के डीएवी पब्लिक स्कूल को रोड सेफ्टी के मामले में बेस्ट स्कूल की रनिंग ट्रोफी दी गई, जबकि पीतमपुरा के ब्रिलियंट्स कॉन्वेंट स्कूल को रनर अप ट्रोफी दी गई। पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने रोड सेफ्टी ट्राफी केरल एजुकेशन सोसाइटी स्कूल को दिया गया। साथ ही प्रथम रनर अप स्कूल दर्शन अकादमी स्कूल को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर ट्रैफिक पुलिस के स्पेशल कमिश्नर ताज हसन ने कहा कि वर्तमान समय में 60 फीसदी सड़क हदासा गाड़ी चलाने वालों की लापरवाही की वजह से होती है। ऐसे में लोगों को ट्रैफिक नियमों का पालन करना चाहिए। ताकि वो अपनी किमती जीवन को बचा सके। यही वजह है कि ट्रैफिक पुलिस  विभिन्न तरह के कार्यक्रम करके लोगों को जागरूक करने की कोशिश करती है। 
 

Related Stories:

RELATED यहां बाइकर जमकर उड़ा रहे ट्रैफिक नियमों की धज्जियां