एक साथ जली 3 दोस्तों की चिता, सड़क हादसे में हुई मौत

मंडी अटेली (दूरदर्शी): नावदी रामपुरा से राजस्थान के गांव बृजपुरा बारात जा रहे युवकों की सड़क हादसे में हुई मौत से गांव नीरपुर में मातम छा गया। गमगीन माहौल में तीनों साथियों का एक साथ गांव में दाह संस्कार किया गया। जबकि चौथे युवक का उनके पैतृक नया गांव में दाह संस्कार किया गया।  गांव नीरपुर निवासी मयंक जिसका पिता पहले से ही स्वर्ग सिधार गया। अपने माता-पिता की इकलौती संतान है। मयंक पुत्र कणसिंह की मां नरेश देवी का रो-रोकर बुरा हाल है।

नरेश देवी का पति कर्ण सिंह मरने के बाद मयंक ही जीवन की आस थी। मयंक की मौत के बाद तो मानो उसका सब कुछ उजड़ गया। मयंक की मां बार-बार मूर्छित हो रही है। होश में आते ही मयंक- मयंक कह कर बेहोश हो जाती है। ऐसा ही हाल लव कौशल की मां का है। लव कौशल पुत्र देवेन्द्र भी अपनी मात-पिता का इकलौती संतान था। पूर्व सरपंच देवेन्द्र भी अपनी इकलौती संतान खोकर अपने को रोक नहीं पा रहा है। नितिन पुत्र श्याम सुंदर का परिवार का बुरा हाल है।

कुशाग्र बुद्धि का नितिन को खोकर परिवार में मातम है। पूरा गांव ढांढस बंधाने में लगा हुआ है। दाह संस्कार में अनेक गण्यमान्य लोग पहुंचे। नीरपुर राजपूत गांव का चौथा युवक दीपक का रोहतक पी.जी.आई. में उपचार चल रहा है। उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। वही गाड़ी चालक नया गांव निवासी अंकित भी इनका साथी रहा है। कुछ लोग तो विवाह में जाने की बजाय दुर्घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंच गए। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!