शिक्षक दिवस: केवल 45 शिक्षकों को ही मिलेंगे राष्ट्रीय पुरस्कार

नई दिल्ली : हर साल पांच सितंबर को शिक्षक दिवस के अवसर पर देश के तीन सौ से अधिक शिक्षकों को राजधानी में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जाता था लेकिन इस बार केवल 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार दिया जाएगा। राजधानी में बुधवार को यह पुरस्कार उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू देंगे और शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर ये शिक्षक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर अपने अनुभव उन्हें साझा करेंगे।

PunjabKesariइस बार शिक्षकों के पुरस्कार के नियमों में काफी परिवर्तन किया गया है और अब कोई शिक्षक पुरस्कार के लिए अपने नाम को भी प्रस्तावित कर सकता है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की सोमवार को जारी विज्ञप्ति के अनुसार इस वर्ष 6692 शिक्षकों से आवेदन प्राप्त हुए थे लेकिन इस बार केवल 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार दिया जा रहा है जबकि हर साल तीन सौ से अधिक लोगों को यह पुरस्कार दिया जाता था। पुरस्कारों की गरिमा एवं गुणवत्ता बनाने के लिए इसकी संख्या कम की गई है।

PunjabKesariविज्ञप्ति के अनुसार हर जिले से तीन शिक्षकों के नाम प्रस्तावित होने के बाद उनका चयन एक समिति ने किया और इस तरह सभी राज्यों एवं केंद्र शासित क्षेत्रों से कुल 152 नाम प्रस्तावित किए गए। अब तक पहले कोई शिक्षक अपना नाम खुद प्रस्तावित नहीं करता था। इस बार शिक्षकों को अपना नाम खुद प्रस्तावित करने का प्रावधान किया गया था ताकि नए शिक्षक भी इस पुरस्कार के हकदार हो सकें। पहले कम से कम 15 साल अध्यापन करने वाले शिक्षकों को ही पुरस्कार दिया जाता था।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED एनबीई दीक्षांत समारोह में शरीक होंगे नायडू