Kundli Tv- आंगरक चतुर्थी पर बन रहा है ये दुर्लभ योग

ये नहीं देखा तो क्या देखा(VIDEO)
आज मंगलवार मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। जो श्री गणेश चतुर्थी के नाम से जानी जाती है।  गणपति का पूजन सदा फलदायी होता है लेकिन आज के दिन बप्पा की खास पूजा करने का विधान है। वैसे तो हर महीने वैनायकी श्री गणेश चतुर्थी व्रत आता है लेकिन इस बार मंगलवार होने से इसका महत्व बढ़ गया है। अंगारकी वैनायकी श्री गणेश चतुर्थी के दिन मंगल की नेगेटिव ऊर्जा को पॉजिटिव ऊर्जा में बदलने के लिए विशेष उपाय करने चाहिए। इससे कमजोर चल रही आर्थिक स्थिति भी मजबूत होती है। आज दोपहर 1 बजकर 29 मिनट तक रवि योग रहेगा। इस दौरान किये गये उपाय छप्पर फाड़ लाभ देंगे।


मेष- शक्तिशाली बनने की इच्छा रखते हैं तो केला, चमेली का तेल और सिन्दूर या रोली हनुमान जी के मंदिर में रख आएं।

वृष-हैपी फैमिली के लिए श्री गणेश के सामने पानी वाला नारियल फोड़कर, उसका जल सारे घर में छिड़के और नारियल के टुकड़ों को भोग लगाकर सारा परिवार मिलकर खाए।

मिथुन- दाम्पत्य संबंधों को मजबूत करने के लिये शहद का दान करें।

कर्क-समाज में अपनी साख बनाने के लिए भगवान गणेश को मफलर या स्कार्फ गिफ्ट करें।

सिंह-अपने जीवन में कभी भी अमंगल नहीं चाहते हैं तो मंगल ग्रह से मित्रता करने का ये सुनहरी मौका है। ऋग्वेद में बताई इस पंक्ति का 108 बार पाठ करें-‘अग्ने सख्यं वृणीमहे’

कन्या- सफलता के शिखर पर पहुंचने के लिए श्री गणेश मंदिर में चंदन की खुशबू वाली इत्र, धूप या अगरबत्ती लगाएं।

तुला- बड़े भाई के साथ मधुर संबंध बनाने के लिए हनुमान जी के मन्दिर में घी का दीपक जलाएं।

वृश्चिक- ज्ञान बढ़ाना चाहते हैं तो श्री गणेश के इस मंत्र का 108 बार जप करें-“मेधोल्काय स्वाहा” शुभ लाभ प्राप्त करने के लिए विद्या यंत्र की स्थापना भी कर सकते हैं।

धनु- यदि आपका जीवन रसहीन हो गया है तो नई उमंग पैदा करने के लिए किसी नाई या दर्जी को कुछ मीठा खिलाएं। संभव हो तो लाल रंग के वस्त्र भी गिफ्ट कर सकते हैं।

मकर- धन संबंधित किसी भी परेशानी को दूर करने के लिए आज अपने घर या वर्क प्लेस पर मंगल यंत्र की स्थापना करें। ऋग्वेद की इस पंक्ति का कम से कम 108 बार पाठ करें ‘अग्ने सखस्य बोधि नः।’

कुंभ- अपने अंदर पॉजिटिव ऊर्जा का संचार करना चाहते हैं तो हनुमान मंदिर में मसूर की दाल का दान करें।

मीन-लव अफेयर को स्ट्रांग बनाने के लिए श्री गणेश की पूजा करें और उन्हें सिंदूर जरूर चढ़ाएं।
जानें क्या है आंगरक चतुर्थी (VIDEO)

Related Stories:

RELATED साल की पहली विनायक चतुर्थी जानें व्रत, पूजन विधि