ज्येष्ठ महीने में रहेगी इन व्रत-त्योहारों की धूम

ये नहीं देखा तो क्या देखा (Video)

हिन्दू पंचांग का तीसरा महीना यानी ज्येष्ठ शुरु हो चुका है। चैत्र और वैशाख माह के बाद आने वाला ये महीना 19 मई से शुरू हुआ था और 17 जून तक रहने वाला है। अंग्रेजी कैलेंडर की तारिखों के अनुसार ये मास अधिकतर मई और जून के महीने में आता है। इस एक महीने में सूर्य देव का रौद्र रूप देखने को मिलता है। प्रचंड गर्मी से न केवल मनुष्य बल्कि पशु-पक्षी भी त्रस्त रहते हैं। तभी तो इस महीने में जल दान और पानी पिलाने का खास महत्व माना गया है। इस महीने में स्वास्थ्य और जल के संरक्षण पर विशेष ध्यान देने की जरुरत होती है। प्रकृति में जल को बचा कर रखने का संदेश देने के लिए गंगा दशहरा मनाया जाता है। इस रोज़ जल की पूजा की जाती है, वहीं दूसरी ओर निर्जला एकादशी में जल के बिना रहकर व्रत किया जाता है। चंद्र महीनों का नाम उनके नाम नक्षत्रों पर आधारित हैं। ज्येष्ठ माह का नाम भी ज्येष्ठा नक्षत्र के नाम पर आधारित है। कहा जाता है की ज्येष्ठ पूर्णिमा पर चंद्रमा ज्येष्ठा नक्षत्र में विराजित होता है इसलिए इसे ज्येष्ठ माह कहा जाता है।

ज्येष्ठ महीने में रहेगी इन व्रत और त्योहारों की धूम
25 मई-
रोहिणी के सूर्य, नवतपा शुरू

26 मई- कालाष्टमी, भानु सप्तमी

27 मई- श्री शीतलाष्टमी व्रत, त्रिलोचनाष्टमी

28 मई-बड़ा मंगल

30 मई- अपरा एकादशी व्रत 

31 मई-प्रदोष व्रत, वट सावित्री व्रत 

3 जून- सोमवती अमावस्या

4 जून- बड़ा मंगल

11 जून- बड़ा मंगल

12 जून- गंगा दशहरा

13 जून-निर्जला एकादशी

17 जून-पूर्णिमा


 

Related Stories:

RELATED इस हफ्ते रहेगी इन व्रत और त्यौहारों की धूम