Kundli Tv- ये काम करने वाले को दिल दहकाने वाली सज़ा देते हैं श्रीकृष्ण

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)


इतना तो सबको पता ही होगा कि मृत्यु के बाद हर इंसान को अपने कर्मो के अनुकूल फल प्राप्त होता है। हिंदू धर्म के शास्त्रों और पुराणों में व्यक्ति के हर कर्म का फल बताया गया है। इसमें उसके द्वारा किए गए अलग-अलग अपराधों और बुरे कर्मों की सजा बताई गई है। तो आईए आज गरुड़ पुराण में लिखा एक एेसे कर्म की सज़ा जानते हैं, जिसे सुनकर किसी की भी रूह कांप उठेगी। भगवान श्री कृष्ण ने तो भ्रूण हत्या करने वालों के लिए तो ऐसी सजा निर्धारित कर रखी है जिसे सुनकर व्यक्ति के रोंगटे खड़े हो जाएंगे।

पुराणों के अनुसार भगवान कृष्ण की नज़र में भ्रूण हत्या सबसे बड़ा अपराध है। इसका उदाहरण महाभारत का वह प्रसंग है जब युद्ध समाप्त होने के बाद द्रोणाचार्य के पुत्र अश्वत्थामा ने अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ में पल रहे शिशु पर ब्रह्मास्त्र का प्रयोग करके उसकी हत्या कर दी जिससे भगवान श्री कृष्ण बहुत क्रोधित हो गए।

इस घटना के बाद श्रीकृष्ण ने घोषणा करते हुए कहा था कि- अश्वत्थामा का पाप अन्य सभी पापों में सबसे बड़ा महापाप है, क्योंकि अश्वत्थामा ने एक अजन्मे शिशु की हत्या की थी। श्री कृष्ण ने इस पाप की सजा स्वयं अश्वत्थामा को देते हुए अश्वत्थामा के सिर पर लगा चिंतामणि रत्न छीन कर श्राप दिया कि तुमने जन्म तो देखा है लेकिन मृत्यु को नहीं देख पाओगे यानि जब तक सृष्टि रहेगी तुम धरती पर जीवित रहोगे और भयंकर दुख प्राप्त करोगे।

इसलिए कहा गया है कि जो लोग गर्भ में पल रहे बच्चे के जन्म से पहले ही उसकी हत्या कर देते या गर्भपात करवा देते हैं। ऐसे लोगों को मरने के बाद भगवान श्रीकृष्ण ऐसी सजा देते है जिससे मरने के बाद भी उन्हें कभी मुक्ति नहीं मिलती। इसके अलावा भी गरूड़ पुराण में कुछ ऐसे अपराध बताएं गए जिनकों सुनकर रूह कांपने वाले दण्ड दिए जाने का प्रावधान बताया गया है।

अगर कोई पुरूष परस्त्री से संबंध रखता हो उन्हें लोहे के गर्म सलाखों को आलिंगन करवाया जाता है। जो पुरूष अपने गोत्र की स्त्री से संबंध बनाता है उसे नर्क भोगकर लकड़बघ्घा रूप में जन्म लेना पड़ता है। कुंवारी लड़कियों से संबंध बनाने वाले को नर्क की घोर यातना सहने के बाद अजगर के रूप में जन्म लेना पड़ता है।

जो व्यक्ति काम भावना से पीड़ित होकर गुरू की पत्नी का मान भंग करता है। ऐसा व्यक्ति वर्षों तक नर्क की यातना सहने के बाद गिरगिट की योनि में जन्म लेता है। मित्र के साथ विश्वास घात करके उसके पत्नी से संबंध बनाने वाले को गधे की योनि में जन्म मिलता हैं। 
कैसे महाकाली दूर करेंगी अकाल मृत्यु का भय !  (देखें VIDEO)

Related Stories:

RELATED रामायण और महाभारत से जुड़ी इन बातों पर करें अमल कभी नहीं होगी शिकस्त