Kundli Tv- ये 10 बाते इंसान को कर देती हैं बर्बाद

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)
हमारी सोच ही हमें सुखी और दुखी बनाती है। हमारी सोच या चिंतन जैसा होता है, वह हमारे चेहरे पर, हमारे व्यवहार में, हमारे कार्यों में दिखने लगता है। जब हमारे अंदर भय और शंकाएं प्रवेश कर जाती हैं तो हमारी आंखों व हमारे हाव-भाव से इसका पता चलने लगता है और हमारे भीतर जब खुशियां प्रवेश करती हैं या हमारा चिंतन हास्य या खुशी का होता है तो हमारे सारे व्यक्तित्व से खुशी झलकती है। जब हम मुस्कराहट के साथ लोगों से मिलते हैं तो सामने वाला भी हमसे खुशी के साथ मिलता है। जब हम दुखी होते हैं या गुस्से में होते हैं तो दूसरे लोग हमें पसंद नहीं करते और वे हमसे दूर जाने का प्रयास करते हैं। बहुत से लोगों की सोच या चिंतन अपना दुख बताने की होती है। ऐसे लोग खुद तो दुखी रहते ही हैं, दूसरों को भी दुखी करते हैं। 


भगवान कृष्ण कहते हैं कि जिसका मन वश में है, जो राग-द्वेष से रहित है, वही स्थायी प्रसन्नता को प्राप्त करता है। जो व्यक्ति अपने मन को वश में कर लेता है, उसी को कर्मयोगी भी कहा जाता है। इस संसार में दो प्रकार के मनुष्य हैं। एक तो दैवीय प्रकृति वाले, दूसरे आसुरी प्रकृति वाले। इसी तरह से हमारे मन में 2 तरह का चिंतन या सोच चलती है- सकारात्मक एवं नकारात्मक। सकारात्मक सोच वाले खुश और नकारात्मक सोच वाले दुखी देखे जाते हैं। 

दुखी रहने के दस कारण-

देरी से सोना, देरी से उठना।

लेन-देन का हिसाब नहीं रखना।

कभी किसी के लिए कुछ नहीं करना।

स्वयं की बात को ही सत्य बताना।

किसी का विश्वास नहीं करना।

बिना कारण झूठ बोलना।

कोई काम समय पर नहीं करना।

बिना मांगे सलाह देना।

बीते हुए सुख को बार-बार याद करना।

हमेशा अपने लिए सोचना।
इस दिशा में भूलकर भी न लगाएं पितरों की तस्वीरें (देखें VIDEO)

 

Related Stories:

RELATED Kundli Tv- नहीं होना चाहते Depression का शिकार, तो आज ही घर से हटा दें ये चीज़ें