ऑफ द रिकॉर्डः डिप्टी चेयरमैन का कमरा भी जाएगा

नेशनल डेस्कः उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के चेयरमैन एम. वेंकैया नायडू का कहना है कि डिप्टी चेयरमैन के पद का चुनाव होगा मगर ऐसा दिखाई देता है कि सरकार राज्यसभा में भाजपा के सदस्यों की संख्या कम होने के कारण यह चुनाव करवाने के पक्ष में नहीं क्योंकि उसे भाजपा उम्मीदवार की जीत यकीनी नहीं दिखाई देती। इसी बीच नायडू एक कदम आगे बढ़े। नायडू ने डिप्टी चेयरमैन के पद के लिए संसद के मानसून सत्र के दौरान आम सहमति बनाने की संभावनाओं का पता लगाया। अब ऐसी चर्चा है कि कि उपराष्ट्रपति ने समय के लिए डिप्टी चेयरमैन के विशेष कमरे का नियंत्रण ले लिया और वह इसका बेहतर इस्तेमाल कर रहे हैं।

एक दर्जन कुर्सियों के साथ डाइनिंग टेबल को वहां लगा दिया गया है और अस्थायी विभाजन बनाया गया है। डिप्टी चेयरमैन की गैर-मौजूदगी में उपराष्ट्रपति को लम्बे समय तक सदन में बैठना पड़ता है इसलिए उन्होंने संसद भवन में आराम करने के बाद वहां एक बैड लगवा दिया है ताकि वे 6 मौलाना आजाद रोड पर अपने निवास स्थान जाने की बजाय वहां कुछ समय तक आराम कर सकें। डिप्टी चेयरमैन के वहां उनके चैंबर के बाहर लगी प्लेट भी हटा दी गई है। सरकार लगातार यह संकेत दे रही है कि वह चुनाव करवाने की इच्छुक है मगर चेयरमैन अब डिप्टी चेयरमैन की भूमिका भी निभा रहे हैं।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!