फसल बीमा: नुकसान का आकलन करने में आधुनिक प्रौद्योगिकी का हो रहा परीक्षण

नई दिल्लीः फसल बीमा दावों के भुगतान के लिए फसल को हुए नुकसान की मात्रा का पता लगाने में आधुनिक प्रौद्योगिकी की दक्षता जांचने के लिए 11 राज्यों में 9 अध्ययन शुरू किए गए हैं। सरकार ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी। ये अध्ययन आंध्र प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु और तेलंगाना में शुरू किए गए हैं।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत वर्तमान में राज्यों को प्रत्येक ग्राम पंचायत में हर फसल के लिए 4 बार नुकसान का आकलन करना होता है और फसल के एक महीने के भीतर बीमा कंपनियों को सौंपना होता है। कृषि मंत्रालय ने इसी प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए इसमें आधुनिक प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल शुरू किया है। 
    
 

Related Stories:

RELATED बीमा कंपनियों को दावों के निपटान में देरी करने पर किसानों को 12% ब्याज देना होगा