तेजस की बढी ताकत, हवा में ही भरा ईंधन

नई दिल्ली: भारत ने आज एक महत्वपूर्ण मुकाम हासिल करते हुए देश में ही बने हल्के लड़ाकू विमान तेजस में हवा में ही ईंधन भर कर बड़ी सफलता अर्जित की। इसके साथ ही भारत सैन्य श्रेणी के विमानों में हवा में ईंधन भरने की क्षमता वाले चुनिंदा देशा में शामिल हो गया है। गत चार सितंबर को इस तकनीक का ‘ड्राई’ परीक्षण किया गया था जो पूरी तरह सफल रहा था।  

PunjabKesari

हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड के मुख्य प्रबंध निदेशक आर माधवन के अनुसार वायु सेना के टैंकर विमान आई एल-78 ने तेजस में 2000 फुट की उंचाई पर 1900 किलो तेल भरा। तेजस की गति उस समय 270 किलोमीटर प्रति घंटा थी। टैंकर विमान ने तेजस के भीतरी टैंक और ड्राप टैंक को पूरा भर दिया।  तेजस को इस दौरान विंग कमांडर सिद्धार्थ सिंह उड़ा रहे थे। इस प्रक्रिया के समय ग्वालियर स्टेशन में स्थित नियंत्रण कक्ष से सभी प्रणालियों पर नजर रखी जा रही थी। विमान की सभी संबंधित प्रणाली सभी कसौटियों पर पूरी तरह खरी उतरी।   

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!