टैक्नोलॉजी क्षेत्र में है सबसे ज्यादा नौकरियां

दुनियाकी सबसे बड़ी करियर नेटवर्किंग साइट लिंक्डइन ने एक सर्वे किया जिसमें बताया गया है कि भारत में 10 सबसे तेजी से बढ़ती नौकरियों में से 8 नौकरियां टैक्नोलॉजी क्षेत्र में है। बता दें, ये सर्वे भारत में लाखों लिंक्डइन मेंबर्स के 2013 और 2017 के बीच डेटा के विश्लेषण पर आधारित है।

PunjabKesari
वहीं इस सर्वे के आने के बाद इस बात पर जोर दिया जा रहा है कि भारत में अब नौकरी के क्षेत्र में इंजीनियरिंग क्षेत्र अपने पैर पसार रहा है। साथ ही ये एक बदलाव लेकर आ रहा है जिसमें उन उम्मीदवारों को नौकरी मिलने के आसार बढ़ गए हैं जो टैक्नोलॉजी क्षेत्र से हैं। वहीं आपको बता दें, लगभग एक दशक पहले, सॉफ्टवेयर इंजीनियर और बिजनेस एनालिस्ट को ही खास नौकरी माना जाता था या यूं कहे इस क्षेत्र के लोगों की नौकरी को प्रमुख खिताब दिया जाता था।

सर्वे में कहा गया है कि-भारत में, कई बिजनेस बड़े डेटा और डिजिटल प्रोडक्ट्स पर फोकस करने लगे हैं। बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विस और बीमा (BFSI), मैन्युफैक्चरिंग, मीडिया और एंटरनेमेंट, प्रोफेशनल सर्विस, रिटेल एंड कस्टमर प्रोडक्ट्स और टैक्नॉलोजी सॉफ्टवेयर में ग्रोथ बढ़ाने के लिए  टेक्नॉलोजी की आवश्यकता है इसलिए अब मार्कीट में मशीन-लर्निंग इंजीनियरों और डेटा साइंटिस्ट की भारी मांग है।

PunjabKesari

लिंक्डइन की रिपोर्ट, जो कि माइक्रोसॉफ्ट का हिस्सा है, यह भी दिखाती है कि जब मशीन-लर्निंग और डेटा साइंटिस्ट नौकरियों के लिए योग्यता की बात आती है, तो आधे से अधिक नए कर्मचारियों के पास सिर्फ एक बैचलर डिग्री होती है जिसका मतलब है कि कंपनियां उन्हें नौकरी के दौरान ही प्रशिक्षित करती हैं। वहीं फर्मों को उच्च योग्यता वाले उन उम्मीदवारों को ढूंढने में परेशानी आती है जो काम के लिए तैयार होते हैं।

अगर अमरीका से तुलना करें तो लगभग 17%  ग्रेजुएट ऐसे छात्र है जो इन टैक्नोलॉजी क्षेत्र की नौकरियों को करते हैं और अपनी डॉक्टरेट की डिग्री को होल्ड पर रखते हैं। उन्होंने रिपोर्ट में कहा कि आंकड़ों के अनुसार ने शहरों में डेटा साइंटिस्ट की मांग की है जिसमें मुंबई और दिल्ली/ एनसीआर में इन पदों के लिए प्रतिस्पर्धा देखने को मिल रही है।

PunjabKesari

आपको बता दें, भारत सिंगापुर के लिए डेटा साइंटिस्ट और साइबर सिक्योरिटी स्पेशलिस्ट सबसे बड़ा सप्लायर भी है। लिंक्डइन ने कहा कि 2017 के बाद से, सिंगापुर में स्थानांतरित होने वाले 22 प्रतिशत डेटा साइंटिस्ट भारत से आए थे। वहीं रिपोर्ट में कहा गया है कि लोगों की नियुक्ति उनकी पिछली नौकरी को देखते हुए नहीं बल्कि उनके स्किल्स और काम करने के तरीके को देखकर दी जाएगी। वहीं इस सर्वे में दिलचस्प बात ये है कि टॉप-5 नौकरियों में सभी नौकरियां टेक्नोलॉजी क्षेत्र की है। 

× RELATED बिना NEET के भी विदेश में कर सकते हैं पढ़ाई, ये हैं शर्त