इस मंत्र का जाप दिला सकता है आपको राजयोग

ये नहीं देखा तो क्या देखा (VIDEO)
जैसे कि हमने आपको बताया कि ज्येष्ठ मास शुरू हो चुका है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस महीने में सूर्य देव और वरुण देव की पूजा का विधान है। हिंदू धर्म के उल्लेख मिलता है कि सूर्य देव के साथ-साथ मात्र चंद्रमा को ऐसे देव कहा गया है, जिन्हें मनुष्य प्रत्यक्ष रूप से देख सकता है। इसके मुताबिक  अगर व्यक्ति सबुह-सुबह सूर्य की पहली किरण के साथ भगवान भास्कर को अर्ध्य देता है, तो उसके जीवन में कभी भी किसी प्रकार की बाधा नहीं आती है।


मान्यता है कि अर्ध्य देने का साथ-साथ जो लोग भगवान भास्कर का हर दिन सुबह निम्न मंत्र का जाप करते हैं, उन्हें राजयोग की प्राप्ति होती है। लेकिन वहीं अगर इसे सही तरीके से नहीं किया जाए तो इसका कोई फायदा नहीं होता। अर्ध्य देने से पहले सूर्य को प्रणाम करें फिर इस मंत्र का जाप करें।

मंत्र
कनकवर्णमहातेजं रत्नमालाविभूषितम्
प्रातः काले रवि दर्शनं सर्व पाप विमोचनम्

इसके बाद सुबह-शाम माता-पिता के चरण स्पर्श करें और उनका आशीर्वाद लें। इसके अलावा सूर्य ग्रह की शांति चाहते हैं तो बिल्व पत्र की जड़ को रविवार को गुलाबी धागे से पीली धातु के कवर में धारण करें। मान्यता है कि जिस व्यक्ति की कुंडली में सूर्य नीच का होता है, उसे ये अवश्य करना चाहिए।


सुबह उठकर करें ये-
घर की पूर्व दिशा में वास्तुदोष न हो इसके लिए इसे साफ़ और सुंदर रखें।

बंदर और गाय को भोजन कराएं। 

गुड़ का दान ही करें।

सुबह-शाम माता-पिता का चरण स्पर्श कर आशीर्वाद लें।

 

Related Stories:

RELATED शनिवार स्पेश्ल:  जप लें इनमें से कोई भी एक मंत्र, जो मांगेंगे मिल जाएगा वहीं