कैचमैंट एरिया में बारिश से बढ़ा सुखना का जलस्तर, प्रशासन अलर्ट

चंडीगढ़ (साजन): सुखना लेक के कैचमैंट एरिया में रुक रुककर हो रही बारिश ने सुखना लेक का जलस्तर बढ़ा दिया है। लेक का वाटर लैवल 1161 फुट के करीब पहुंच गया। लेक के बढ़ते वाटर लेवल को देखते हुए प्रशासन अलर्ट हो गया है। अधिकारियों के अनुसार 1163 फुट के लैवल पर पहुंचते ही लेक के गेट खोल दिए जाएंगे।

 जानकारी के मुताबिक लेक का जलस्तर सामान्य होने के चलते बीते पांच साल में लेक के कपाट नहीं खुले हैं लेकिन इस समय जिस हिसाब से बारिश हो रही है। उसे देखते हुए लग रहा है कि पांच साल बाद लेक के गेट खोले जाएंगे। इससे सुखना चौ व इससे साथ जुड़ी वाटर बॉडीज में पानी चढ़ सकता है। सुखना चौ, शहर के कई हिस्सों से गुजरती हुई पंचकूला के पास होते हुए जीरकपुर में दाखिल होती है। यहां ज्यादा पानी की वजह से निचले इलाकों में पानी तबाही मचा सकता है।

वाटर लैवल 1163 फुट के करीब पहुंचते ही खोल दिए जाएंगे गेट : चीफ इंजी.
सुखना कैचमैंट और सिटी के कुछ एरिया में हो रही बारिश से लेक का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। पिछले साल सितम्बर के पहले सप्ताह में लेक का वॉटर लेवल 1155 फुट तक ही पहुंचा था। बढ़ते जलस्तर को देखते हुए प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली है। चीफ इंजीनियर मुकेश आनंद ने बताया कि पिछले सप्ताह हुई बारिश के बाद लेक का जलस्तर 1151 फुट मापा गया था लेकिन बीते तीन दिनों की बारिश के बाद सुखना का जलस्तर बढ़ गया है। 

1163 फुट के करीब पहुंचते ही लेक के गेट खोल दिए जाएंगे। मुकेश आनंद ने बताया कि लेक का औसत वाटर लैवल 1158 फीट माना जाता है। यदि जल स्तर 1160 फुट के ऊपर पहुंचे तो यह लेक के लिए बढिय़ा स्थिति है लेकिन जिस तरीके से अब कैचमैंट एरिया में बारिश हो रही है उससे लेवल खतरे के निशान तक पहुंचने  का अनुमान लगाया जा रहा है। ऐसे में गेट खोलना ही एक रास्ता बचता है जिससे सुखना चौ सहित इसके साथ जुड़ते अन्य चौ में पानी आ सकता है।

Related Stories:

RELATED माइग्रेटरी बर्ड्स के लिए सिटी फॉरैस्ट में बनेगी फ्रैश वाटर बॉडी