भारत बंद के बहाने सोनिया गांधी ने राहुल को बना दिया गठबंधन का नेता!

नेशनल डेस्कः पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस ने आज मोदी सरकार के खिलाफ संयुक्त विपक्ष का भारत बंद बुलाया था। बेशक यह भारत बंद कांग्रेस ने बुलाया, लेकिन विपक्ष के तमाम बड़े नेता मंच पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ मौजूद रहे। थोड़ी देर बाद यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी की मंच पर एंट्री हुई, लेकिन उन्होंने मंच से न तो कोई भाषण दिया और न ही वहां पर ज्यादा देर रुकीं।

PunjabKesari

सवाल है कि क्या सोनिया गांधी ने राहुल गांधी को कांग्रेस की कमान सौंपने के बाद विपक्ष की भी जिम्मेदारी उन्हीं को सौंप दी है। यह सवाल इसलिए भी अहम है, क्योंकि सोनिया गांधी मंच पर आईं तो जरूर, लेकिन चुपचाप बैठी रहीं, एक आध-बार पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से बातचीत जरूर करती दिखीं। मंच पर तो राहुल गांधी ने ही विपक्ष के सारे नेताओं से बात की और उनके बोलने का क्रम निर्धारित किया।

PunjabKesari

भारत बंद की शुरूआत से पहले वरिष्ठता के क्रम को देखते हुए सबसे आखिर में शरद पवार को भाषण देने के लिए बुलाया गया। उसके ठीक बाद राहुल गांधी ने भाषण दिया। कांग्रेस की ओर से यह दिखाने की कोशिश की गई कि गठबंधन का सबसे बड़ा नेता बाद में बोलता है और इस गठबंधन का चेहरा राहुल गांधी ही हैं। यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी कुछ देर तक विपक्ष के नेताओं के बीच बैठीं जरूर, लेकिन सबकुछ ठीक-ठाक देख मंच की जिम्मेदारी राहुल गांधी को सौंप वह घर चलीं गईं।

PunjabKesari

भारत बंद में शिरकत करने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी मानसरोवर यात्रा खत्म कर दिल्ली लौटे और तुरंत राजघाट का रुख किया। उनकी पार्टी के दिग्गज नेता पहले से ही राजघाट पर मौजूद थे और साथ ही विपक्ष के नेता भी जुटे थे। राहुल ने कैलाश मानसरोवर से लाया जल महात्मा गांधी की समाधि पर चढ़ाया। उसके बाद वो विपक्ष के नेताओं के साथ पैदल ही रामलीला मैदान के पास स्थित पेट्रोल पंप पर धरना देने के लिए चल पड़े। राहुल गांधी जब राजघाट से पैदल चले थे तो सबकी नजरें इस पर टिकीं थी कि उनके साथ विपक्ष के कितने दल शामिल हैं।

PunjabKesari

बता दें कि सोनिया गांधी अध्यक्ष पद से रिटायर होने के बाद राजनीति में उस कदर सक्रिय नहीं हैं, ऐसे में वो देर-सबेर राहुल गांधी को ही सबकुछ सौंप देंगी। ये कयास तो पहले से ही लगाए जा रहे थे। सोनिया ने अध्यक्ष पद की कुर्सी पिछले साल दिसंबर में राहुल को सौंप दी थी। लेकिन अब विपक्ष के साथ तालमेल बनाने की जिम्मेदारी भी जिस तरह उन्होंने राहुल के हवाले की है। इससे सोनिया गांधी के रिटायरमेंट के कयास भी लगने लगे हैं।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED भारत बंदः कांग्रेस का बीजेपी पर निशाना, घबराई सरकार राहुल पर कर रही वार