भारत बंद: धरने पर बैठे मनमोहन सिंह बोले, सरकार बदलने के लिए एकजुटता जरूरी

नई दिल्ली: पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार बढ़ोतरी पर नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस की ओर से बुलाए गए ‘भारत बंद’ के तहत सोमवार को हुए विरोध प्रदर्शन में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की प्रमुख सोनिया गांधी भी शामिल हुए। इस विरोध प्रदर्शन में करीब 20 विपक्षी दलों के नेता शामिल हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और दूसरे नेताओं ने राजघाट से रामलीला मैदान तक मार्च किया। इस दौरान मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार पर जनता को दिए वादे पूरे नहीं करने का आरोप लगाते हुए कहा कि विपक्षी दलों को जनता के विरूद्ध काम कर रही सरकार को बदलने के लिए एकजुट होना जरूरी हो गया है।


डॉ. सिंह ने कांग्रेस के ‘भारत बंद’ के दौरान यहां रामलीला मैदान में आयोजित धरना प्रदर्शन में कहा कि विपक्षी दलों को अपने सभी मतभेद भुलाकर देश की एकता, अखंडता और जम्हुरियत के लिए एकजुट होकर काम करने और मोदी सरकार को सत्ता से हटाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस सरकार कि जन विरोधी नीतियों का खुलासा हो चुका है।

किसान, व्यापारी, छोटे-बड़े कारोबारी और युवा परेशान है इसलिए मिलकर इस सरकार को बाहर की मुहिम चलाने की जरुरत है।  डॉ. सिंह ने कहा कि सारा विपक्ष पेट्रोल और डीजल के मूल्यों में वृद्धि तथा आसमान छूती महंगाई पर सरकार का ध्यान आकर्षित करने और जनता आवाज बुलंद करने के लिए आज एकत्रित हुआ।

Related Stories:

RELATED तेल की बढ़ती कीमतों से लोगों को राहत, 5 रूपए सस्ता हुआ पेट्रोल