फिर चला इशान किशन का बल्ला, लगाए ताबड़तोड़ 9 छक्के

चेन्नई :एशिया कप में एक तरफ जहां भारतीय बल्लेबाज कहर ढाह रहे हैं तो वहीं, घरेलू टूर्नामैंट विजय हजारे ट्रॉफी में भी जोरदार मैच चल रहे हैं। एक ऐसा ही मैच झारखंड और असम के बीच भी हुआ जिसमें झारखंड के कप्तान इशान किशन ने स्टेडियम के चारों तरफ चौके-छक्के लगाकर दर्शकों का दिल जीत लिया। इशान ने 139 रन की अपनी तूफानी पारी में सिर्फ 91 गेंदों का सामना करते हुए 12 चौके और नौ छक्के जड़े। इशान के सैकड़े के कारण झारखंड ने असम से मिले 221 रनों के लक्ष्य को 31वें ओवर में ही दो विकेट खोकर हासिल कर लिया।

विजय हजारे ट्रॉफी में बन रहे हैं बड़े रिकॉर्ड

अभी पिछले हफ्ते ही विजय हजारे ट्रॉफी के एक मैच में झारखंड के बॉलर शाहबाज नदीम ने राजस्थान के खिलाफ 10 रन देकर आठ विकेट चटकाने का रिकॉर्ड बनाया था। असम के खिलाफ मैच के दौरान भी उन्होंने 3 विकेट झटकाए। असम की ओर से शिवशंकर राय शीर्ष स्कोरर रहे। उन्होंने 46 रन बनाए। इसके जवाब में किशन और साथी सलामी बल्लेबाज आनंद सिंह (58) ने झारखंड को तूफानी शुरुआत दिलाई और टीम ने 17वें ओवर में ही 100 रन के आंकड़े को पार कर लिया। किशन ने 74 गेंद में शतक पूरा किया। 

सेना ने हरियाणा को पांच विकेट से हराया
वहीं, सेना और हरियाणा के बीच लगे मैच के दौरान सेना ने ऊलटफेर करते हुए हरियाणा को 5 विकेट से हरा दिया। सेना की ओर से नकुल वर्मा के 95 तो राहुल सिंह गहलौत के 61 रन की बदौलत 258 रन के लख्य का पीछा 47.3 ओवर में 5 विकेट खोकर पूरा कर लिया गया। हरियाणा ने पहले बल्लेबाजी करते हुए आठ विकेट पर 257 रन बनाए थे। एक अन्य मैच में गुजरात ने त्रिपुरा को 74 रन से हराया। गुजरात ने पहले बल्लेबाजी करते हुए छह विकेट पर 212 रन बनाए और फिर त्रिपुरा को नौ विकेट पर 138 रन पर रोक दिया। गुजरात के लिए रुजुल भट्ट 62 रन बनाकर शीर्ष स्कोरर रहे। पीयूष चावला ने इसके बाद 21 रन पर 4 विकेट चटकाकर गुजरात की जीत सुनिश्चित की।

बारिश के कारण तीन मैच धुले :राजधानी में 2 दिन से चल रही बारिश के कारण दिल्ली और उत्तर प्रदेश के बीच पालम ए मैदान में एलीट ग्रुप बी मैच, हैदराबाद और आंध्र के बीच पालम बी स्टेडियम में ग्रुप बी मैच तथा मध्य प्रदेश और केरल के बीच फिरोजशाह कोटला मैदान में ग्रुप बी मैच बिना गेंद फेंके धुल गए।

Related Stories:

RELATED आॅस्ट्रेलिया की उछाल भरी पिचों पर खेलने को बेताव हैं मुरली विजय