राजकुमारी लतीफा और चंद दिनों की ‘आजादी’

जालंधर (सोमनाथ): संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (सी.एच.आर.) के समक्ष 107 देशों के व्यक्तियों को जबरन लापता कर देने जैसे 55,000 मामले हैं, जोकि पहेली बने हुए हैं। यह मामला उस समय और भी पेचीदा हो जाता है जब किसी को किसी देश या फिर राजनीतिक संगठन द्वारा अगवा या लापता कर दिया गया हो और वह देश गायब व्यक्ति के बारे में कोई भी जानकारी देने से इंकार कर दे। ऐसे मामले अंतर्राष्ट्रीय अधिकार कानून के तहत मानवीय अपराध की श्रेणी में आते हैं। एक ऐसा ही मामला दुबई के शासक परिवार की राजकुमारी शेखा लतीफा का है, जिसने पिछले साल मार्च महीने में शाही परिवार से भागने की कोशिश की लेकिन उनकी यह आजादी कुछ दिन की थी। उसके बाद से वह लापता हैं। अपने पकड़े जाने से पहले एक वीडियो में शेखा लतीफा ने कहा था, ‘‘अगर आप यह वीडियो देख रहे हैं या तो मैं मर चुकी हूंगी या फिर बहुत ही बदतर हालात में हूंगी।’’ हालांकि पिछले दिनों उनकी तस्वीर जारी हुई है जिसमें वह आयरलैंड की पूर्व राष्ट्रपति मैरी रॉबिन्सन के साथ खाने की टेबल पर नजर आ रही हैं और मैरी रॉबिन्सन ने इसे पारिवारिक मामला बताया है। संयुक्त राष्ट्र और एमनैस्टी इंटरनैशनल एंड ह्यूमन राइट्स इस सारे मामले को देख रहे हैं। अंग्रेजी के एक अखबार ने राजकुमारी के ई-मेल, फोटोग्राफ्स, सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज, आई.डी. सर्टीफिकेट्स, सैटेलाइट डाटा, ऑडियो और वीडियो की पड़ताल की है कि उनके साथ क्या हुआ था। 


खुली हवा में सांस लेने की इच्छा
वीडियो में सामने आया है कि राजकुमारी शेखा लतीफा के अनुसार अब वह अपने पिता के दमनकारी और क्रूर व्यवहार से दूर जा रही हैं। उनके अनुसार जब बात शादी, तलाक या फिर बच्चों की कस्टडी की आती है तो यू.ए.ई. कानून में प्राथमिकता पुरुष को दी जाती है। यह अभी भी घरेलू हिंसा की अनुमति देता है। लतीफा को दुबई से बाहर यात्रा करने और अध्ययन करने की अनुमति नहीं थी। एक विचारक या पुरुष अभिभावक ने उसे हर जगह एक तरह से कैद कर रखा था। अपने वीडियो में लतीफा कहती हैं कि एक राजकुमारी के रूप में उनका जीवन एक बड़ा ढोंग था। उन्हें गैर-सार्वजनिक स्थान पर जाने की अनुमति नहीं थी। यहां तक कि उनके दोस्तों के घर जाना भी कुछ हद तक था। उन्होंने चिकित्सा का अध्ययन करने का सपना देखा। उसकी भी अनुमति नहीं थी। वीडियो में वह कहती हैं कि यहां कोई न्याय नहीं है। 

पिता ने मारने को कहा है!
राजकुमारी ने वीडियो में बताया कि 2002 में जब वह 16 वर्ष की थीं तो उन्होंने पड़ोसी देश ओमान पार करने की कोशिश की थी। वह पकड़ी गईं, उन्हें कैद कर टॉर्चर किया गया। एक व्यक्ति ने उन्हें पकड़ रखा था और बाकी उन्हें पीट रहे थे। पीट रहे व्यक्तियों का कहना था कि आपके पिता के आपको मारने के आदेश हैं। इस वीडियो बारे वाशिंगटन स्थित दुबई सरकार के मीडिया ऑफिस ने कोई भी टिप्पणी से इंकार कर दिया।  दुबई के शासक की 6 पत्नियां और 30 बच्चे हैं। लतीफा शेख मकतूम की दूसरी बेटी हैं जो गायब हैं। लतीफा से पहले भी दुबई के शासक की एक बेटी भागने की कोशिश कर चुकी है। यह किस्सा थोड़ा पुराना है। लतीफा से बड़ी राजकुमारी शम्सा ने 2000 में ब्रिटेन के सरे एस्टेट से भागने की कोशिश की थी। कुछ हफ्ते बाद 19 साल की शम्सा को कैंब्रिज से पकड़कर दुबई लाया गया था। यह मामला आज भी अनसुलझा हुआ है क्योंकि यू.के. की पुलिस को जांच के लिए दुबई आने की अनुमति नहीं मिली। भागने की कोशिश के बाद से शम्सा अब तक सार्वजनिक जीवन में नहीं देखी गई हैं। लतीफा को यू.एस. से राजनीतिक शरण मिलने की पूरी आशा थी। वीडियो में वह कहती हैं,‘‘मुझे नहीं पता कि मैं कैसा महसूस कर रही हूं, बस सुबह उठकर सोचती हूं, आज मैं जो चाहूं वह कर सकती हूं। यह एक नया और अलग अहसास होगा। 

फ्रांस के पूर्व जासूस और मार्शल आर्ट ट्रेनर ने की भागने में मदद 
लतीफा की भागने में मदद फ्रांस के एक पूर्व जासूस हर्व जॉबर्ट और मार्शल आर्ट ट्रेनर टीना जौहिसेन ने की थी। अंग्रेजी अखबार की पड़ताल मुताबिक टीना जौहिसेन बताती हैं कि वह 2014 में दुबई के शाही आवास में लतीफा को ब्राजील का मार्शल आर्ट सिखाने गई थीं। उनके संपर्क में आने के बाद लतीफा ने भागने के लिए उनसे मदद मांगी। लतीफा इसी दौरान पूर्व फ्रैंच जासूस हर्व के संपर्क में भी थीं। लतीफा अपनी ट्रेनर के साथ एक छोटी रबर की नाव पर सवार होकर समंदर के रास्ते निकल पड़ीं। लहरों का सामना करते हुए वे दोनों किसी तरह समंदर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा में पहुंचने में कामयाब रहीं।

अंतिम मैसेज
लतीफा फ्रैंच जासूस के साथ नाव पर सवार होकर आगे के सफर पर निकल पड़ती हैं। गार्जियन ने डॉक्युमैंट्री के आधार पर तैयार की गई रिपोर्ट में बताया है कि यह नाव भारत की ओर बढ़ रही होती है। लतीफा को ऐसा लगता था कि वह वहां सुरक्षित रहेंगी। उन्होंने पहुंचने के बाद फ्लोरिडा के लिए फ्लाइट लेने की योजना बनाई थी। लतीफा फ्लोरिडा में राजनीतिक शरण लेना चाहती थीं। ओमान छोडऩे के 6 दिन बाद लतीफा ने एक मानवाधिकार कैंपेनर राधा स्टर्लिंग और लंदन बेस्ड अटार्नी डेविड हेज को अपनी नाव से कई मैसेज भेजे। ये मैसेज उन्होंने राजनीतिक शरण और कानूनी सलाह के लिए भेजे थे। एक मैसेज में उन्होंने बताया, ‘‘मैंने यूनाइटेड अरब अमीरात छोड़ दिया है लेकिन मैं खतरे से बाहर नहीं हूं। 

लापता राजकुमारी और उसकी अंतिम दलील 
पिछले साल रविवार की एक शाम के 19.24 बज रहे हैं और व्हाट्सएप पर मदद के लिए 2 सैकेंड में 2 मैसेज आते हैं। उसके बाद क्या हुआ, कुछ मालूम नहीं। ये मैसेज थे दुबई की राजकुमारी लतीफा बिन अल मकतूम के, जिसने दुनिया भर का ध्यान अपनी ओर खींच लिया है। उन्होंने 7 सालों की तैयारी कर अपने देश से भागने में तो सफलता हासिल कर ली लेकिन उनकी आजादी दोबारा छिन गई है। राजकुमारी शेखा लतीफा दुबई के शासक और यू.ए.ई. के प्रधानमंत्री शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम की बेटी हैं। राजकुमारी अल मकतूम के 30 बच्चों में से एक हैं। अपने पकड़े जाने से पहले यू-ट्यूब पर उन्होंने एक वीडियो अपलोड किया था। कैमरे के सामने उन्होंने बयान किया कि उसका नाम लतीफा बिन अल मकदूम है। उसके पिता दुबई के शासक हैं। मैं यह वीडियो बना रही हूं। हो सकता है कि यह मेरा आखिरी वीडियो हो। लतीफा ने कहा था, ‘‘अगर आप यह वीडियो देख रहे हैं या तो मैं मर चुकी हूंगी या फिर बहुत बुरी परिस्थिति में हूंगी।’’

परिवार ने जारी की शेखा लतीफा की तस्वीरें
यू.ए.ई. सरकार ने आखिरकार राजकुमारी शेखा लतीफा से जुड़ी नई जानकारी देते हुए उनकी तस्वीरें जारी कर दी हैं। लतीफा की तस्वीरें दुनिया को यह बताने के लिए है कि वह सही-सलामत अपने घर पर हैं। जो तस्वीरें सामने आई हैं वे लतीफा के घर की हैं, जिनमें उनके साथ आयरलैंड की पूर्व राष्ट्रपति मैरी रॉबिन्सन दिख रही हैं। जानकारी देते हुए वहां के सरकारी मीडिया ने बताया कि परिवार की रिक्वैस्ट के बाद 15 दिसम्बर 2018 को मैरी रॉबिन्सन ने लतीफा से दुबई में मुलाकात की। मैरी रॉबिन्सन ने इस बात की पुष्टि की है कि लतीफा अपने परिवार के साथ है और कहा कि उनकी मानसिक रूप से देखभाल की जा रही है। वह उन्हें एक युवा समस्या महिला कहती हैं और यह अब एक पारिवारिक मामला है। रॉबिन्सन के चरित्र को लेकर राष्ट्र ग्रुप ने फटकार लगाई है। लतीफा के मित्रों का कहना है कि ये तस्वीरें उनके बदत्तर भय की पुष्टि करती हैं। लतीफा को उनकी इच्छा के अनुरूप बंधक बनाया गया है। तस्वीरों में लतीफा अपने आप में खोई हुई, कन्फ्यूज्ड और व्याकुल दिखाई देती हैं और उनकी आंखें कभी भी कैमरे के सामने नहीं टिकीं।

Related Stories:

RELATED राजकुमारी लतीफा और चंद दिनों की ‘आजादी’