ऑफ द रिकॉर्डः शत्रुघ्न, शरद ने गोल्फ क्लब की सदस्यता गंवाई, मोदी की आलोचना की कीमत चुकाई

नेशनल डेस्कः मौजूदा केंद्रीय मंत्रियों सहित कई प्रमुख राजनेताओं को प्रतिष्ठित दिल्ली गोल्फ क्लब की सदस्यता से हाथ धोना पड़ा है। समझा जाता है कि एक बड़े फैसले में शहरी विकास मंत्री हरदेव सिंह पुरी ने लगभग 100 सदस्यों की सदस्यता वापस ले ली है जो पिछली यू.पी.ए. सरकार द्वारा मंत्रियों के कोटे में मनोनीत किए गए थे। रोचक बात यह है कि जिन प्रतिष्ठित मंत्रियों, नेताओं के नाम वापस लिए गए हैं उनमें बिना विभाग के केंद्रीय मंत्री अरुण जेतली भी शामिल हैं लेकिन उनके पुत्र रोहन जेतली (जिन्हें गोल्फ क्लब का पूरा सदस्य मनोनीत किया गया) वह इस सूची में बरकरार हैं।
PunjabKesari
मोदी सरकार के इस फैसले से कई लोगों को हैरानगी हुई है क्योंकि शहरी विकास मंत्रालय ने बहुत से अन्य प्रमुख राजनेताओं के नाम भी सदस्यता सूची से हटा दिए हैं जिनमें केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद भी शामिल हैं। मोदी के कटु आलोचक और भाजपा के लोकसभा सदस्य शत्रुघ्न सिन्हा की भी गोल्फ क्लब की सदस्यता खत्म हो गई है। अगर सूत्रों पर विश्वास किया जाए तो राकांपा नेता शरद पवार और उनकी पुत्री सुप्रिया सुले सहित कई बड़े नेताओं की सदस्यता भी खत्म हो गई है। हो सकता है कि पवार मोदी सरकार के खिलाफ हो गए हैं इसलिए उनको यह कीमत चुकानी पड़ी है।
PunjabKesari
एक अन्य चौंकाने वाली बात यह है कि पूर्व शहरी विकास मंत्री और कांग्रेस नेता कमलनाथ की सदस्यता भी खत्म हो गई है जो क्लब के सदस्यों के नाम मनोनीत किया करते थे। कमलनाथ के कार्यकाल के दौरान ही केंद्रीय शहरी विकास मंत्री गोल्फ क्लब के सदस्य के नाम मनोनीत करते थे।
PunjabKesari
गांधी परिवार के करीबी समझे जाने वाले राजीव शुक्ला की भी सदस्यता खत्म हो गई है। हैरानगी की बात यह है कि गांधी परिवार के दामाद राबर्ट वाड्रा भी इस क्लब के सदस्य मनोनीत किए गए थे जो कि मौजूदा सदस्यों की सूची में बरकरार हैं। तत्कालीन शहरी विकास मंत्री जयपाल रैड्डी ने राबर्ट वाड्रा और उनके सहयोगियों को मंत्रालय के कोटे से प्रतिष्ठित दिल्ली गोल्फ क्लब की सदस्यता दी थी। क्लब ने एक सर्कुलर में कहा है कि इन व्यक्तियों की सदस्यता सरकार ने वापस ले ली है और इसलिए उन्हें क्लब में कोई सुविधा नहीं मिलनी चाहिए।
PunjabKesari
कम से कम 200 सदस्यों को अतीत में कांग्रेस और भाजपा सरकार द्वारा मनोनीत किया गया था। सरकारें सदस्यों को दोबारा मनोनीत करती रहती हैं। कमलनाथ ने उस समय 17 मनोनीत सदस्यों के नाम वापस लिए थे जब वह शहरी विकास मंत्री थे। क्लब लम्बे समय से विवादों में घिरा हुआ है। जगमोहन ने मंत्री पद पर रहते हुए भी परिसर खाली करवाने की कोशिश की थी। यह क्लब 220 एकड़ में फैला हुआ है जिसमें 18 होल गोल्फ कोर्स हैं जो एशिया की पी.जी.ए. 4 का एक हिस्सा है। क्लब के परिसर में बहुत-सी ऐतिहासिक इमारतें हैं। यह दिल्ली में सबसे पुराने और प्रतिष्ठित क्लबों में से एक है। इसकी सदस्यता प्राप्त करने वालों की लम्बी सूची है।

PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!