सावन स्पेशल: रुद्राक्ष को पहनने का ये है सही तरीका

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)

PunjabKesari
रुद्राक्ष भगवान शिव का प्रिय आभूषण है। रुद्राक्ष धन-धान्य, सुख-आनन्द आदि से लेकर धर्म एवं मोक्ष दाता माना गया है। इसीलिए यह भौतिकवादी लोगों सहित योगी, संन्यासी, तपस्वी, यती, ऋषि-महर्षियों आदि सबका प्रिय है। यदि कहें कि इसमें शारीरिक, आत्मिक तथा स्पिरिचूअल तीनों प्रकार के सुखों को प्राप्त करवाने की अदभुत् क्षमता छुपी हुई है तो यह कहना गलत नहीं होगा। अमुक मुख वाला रुद्राक्ष हमें रास आएगा तो उसको प्राप्त करना सरल नहीं है क्योंकि इनसे ही मिलते नकली रुद्राक्ष की बाजार में भरमार है। अत: रुद्राक्ष किसी सर्टिफाइड दुकान से ही खरीदें। 

PunjabKesari
प्राय: प्रत्येक रुद्राक्ष अपने आप में धन-धान्य तथा सुख-संपत्ति का कारक है। यहां जो उपाय बताया जा रहा है वह एक, छ:, आठ, बारह, चौदह तथा गौरी शंकर रुद्राक्ष से रिलेटिड है क्योंकि इनमें लक्ष्मी को रिझाने का विशेष गुण-धर्म छिपा है। सबसे पहले अपनी सामर्थ्य-सुविधानुसार इनमें से एक रुद्राक्ष लें। रुद्राक्ष अथवा उसकी माला प्रयोग करने से पहले उसकी प्राण प्रतिष्ठा, उसके मंत्र अथवा बीज मंत्र का जाप किया जाता है। यह प्रोसेस पेचीदा, लंबा तथा नार्मल व्यक्ति की समझ-पहुंच से बहुत दूर है। 

PunjabKesari
किसी भी दिन रुद्राक्ष को सरसों के तेल में डुबोकर रखें। तीसरे दिन इसे निकाल कर तेल साफ करके इसे पंचामृत में एक दिन के लिए डुबो कर रखें। अगले दिन इसे निकाल कर साफ करके इस प्रकार से पूजा कर सिद्ध करने के उपरांत प्रयोग करें। जो भी एक अथवा अधिक रुद्राक्ष आपने शुद्ध किए हैं, उसे योग्य व्यक्ति से प्राण-प्रतिष्ठित करवा लें। फिर उसके बाद पहनें।

PunjabKesari
रुद्राक्ष माला को धारण करने के नियम
जिस रुद्राक्ष माला से जाप किया जाता है उसे धारण नहीं करना चाहिए। उसी प्रकार जिस माला को धारण किया जाता है उससे जाप नहीं करना चाहिए। 

किसी अन्य के उपयोग में आया रुद्राक्ष अथवा रुद्राक्ष माला को उपयोग नहीं करना चाहिए।

रुद्राक्ष की प्राण-प्रतिष्ठा करवाने के पश्चात उसे शुभ मुहूर्त में ही धारण करें।

रुद्राक्ष धारण करने वाले जातक को मांस, मदिरा, लहसुन और प्याज का सेवन नहीं करना चाहिए।

रुद्राक्ष को अंगूठी में जड़वाकर धारण नहीं करना चाहिए।

स्त्रियों को मासिक धर्म के समय रुद्राक्ष धारण नहीं करना चाहिए। 

रुद्राक्ष धारण कर रात को शयन नहीं करना चाहिए।

राशि अनुसार सावन में करें ये काम, फिर देखें भोले का चमत्कार (देखें VIDEO)

PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!