डीएनए अवशेषों से हिमयुगके जीवों का क्लोन बनाने की तैयारियां तेज

मॉस्कोः  रूसी वैज्ञानिकों ने डीएनए अवशेषों से हिमयुग में मौजूद जीवों का क्लोन बनाने की तैयारियां तेज कर दी हैं।  इस परीक्षण के बाद जुरासिक  पार्क’ श्रृंखला की फिल्मों में नजर आने वाले हाथी, घोड़े और शेर एक बार फिर जिंदा हो उठेंगे। सुनकर कानों पर भले ही यकीन न हो रहा हो, लेकिन ये सच है। 

 ‘साइबेरियन टाइम्स’ के मुताबिक रूस याकुत्स्क प्रांत में एक विश्वस्तरीय क्लोन रिसर्च सेंटर खोलने जा रहा है। इसमें वैज्ञानिक 10 हजार साल पहले विलुप्त हो चुके हाथी, घोड़े, शेर और गैंडे सहित अन्य जीवों पर अध्ययन करेंगे। याकुत्स्क हीरो के विशाल भंडार के लिए मशहूर साखा गणराज्य की राजधानी है। रूस में 10 से 20 हजार साल पहले अस्तित्व में रह चुके जीवों के लगभग 80 फीसदी अवशेष यहीं से बरामद किए गए हैं।

 प्रोजेक्ट से जुड़ी डॉ. लीना ग्रीगोरिएवा की मानें तो प्राचीनकाल में मौजूद जीवों के अवशेष लाखों-करोड़ों वर्षों तक धरती की सतह में संरक्षित रह सकते हैं। हम संरक्षित अवशेषों से प्राप्त डीएनए का अध्ययन कर न सिर्फ विलुप्त जीवों की जैविक संरचना की गहरी समझ हासिल कर पाएंगे, बल्कि उनका क्लोन बनाने की दिशा में आगे भी बढ़ सकेंगे। याकुत्स्क रिसर्च सेंटर में सबसे पहले विशालकाय हाथी का क्लोन तैयार करने की कोशिश होगी।
 

Related Stories:

RELATED रूसी सेना का विमान सीरियाई भूमध्यसागर के ऊपर लापता