RSS ने समलैंगिक संबंध को बताया अप्राकृतिक, कहा- यह अपराध भी नहीं

नेशनल डेस्क: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने कहा है कि समलैंगिक संबंध अपराध नहीं होने के बावजूद अप्राकृतिक होते हैं और संघ इन्हें बढ़ावा नहीं देता है। समलैंगिकता को लेकर पूछे गए सवाल पर अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार ने कहा कि उच्चतम न्यायालय की तरह हम भी इस तरह के संबंधों को अपराध नहीं मानते हैं ।

PunjabKesari
इसके साथ ​ही अरुण कुमार ने कहा कि समलैंगिक संबंध और रिश्ते प्राकृतिक नहीं होते हैं और ना ही हम इस प्रकार के संबंधों को बढ़ावा देते हैं। उन्होंने कहा कि परंपरा से भारत का समाज भी इस प्रकार के संबंधों को मान्यता नहीं देता। मनुष्य सामान्यतः अनुभवों से सीखता है इसलिए इस विषय को सामाजिक एवं मनोवैज्ञानिक स्तर पर ही संभालने की आवश्यकता है।
PunjabKesari

बता दें कि उच्चतम न्यायालय ने दो वयस्कों के बीच आपसी सहमति से समलैंगिक संबंध को अपराध की श्रेणी से आज बाहर कर दिया। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने सहमति के एक फैसले में भारतीय दण्ड संहिता की धारा 377 को चुनौती देने वाली याचिकाओं को निरस्त कर दिया। 
PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!