इराकः हवाईअड्डे पर रॉकेटों से हमला, 12 लोगों की मौत

इंटरनैशनल डेस्कः इराक के दक्षिणी शहर बसरा में कई दिन से जारी प्रदर्शनों में कम से कम 12 लोग मारे गए हैं। वहीं, शहर स्थित हवाईअड्डे पर शनिवार की सुबह अज्ञात हमलावरों ने तीन कात्युशा रॉकेट दागे। इराकी स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को मृतकों की संख्या की जानकारी दी। पानी एवं बिजली की कमी तथा भ्रष्टाचार और बेरोजगारी जैसे मुद्दों को लेकर प्रदर्शन कर रहे लोगों ने ईरान के वाणिज्य दूतावास, कई सरकारी इमारतों और राजनीतिक दलों के कार्यालयों को आग के हवाले कर दिया। लोगों का गुस्सा तब भड़का जब बसरा में प्रदूषित पानी पीने से 30 हजार लोग बीमार हो गए। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि मंगलवार से अब तक 12 लोग मारे जा चुके हैं और लगभग 50 लोग जिनमें 48 आम लोग तथा दो पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।
PunjabKesari
बसरा में चिकित्सा सूत्रों ने कहा कि दो लोग शुक्रवार की रात मारे गए। इराकी संसद स्थिति पर चर्चा करने के लिए आज आपातकालीन सत्र बुला सकती है। अधिकारियों ने बताया कि रातभर चली अफरातफरी के बाद शनिवार की सुबह अज्ञात हमलावरों ने बसरा हवाईअड्डे पर तीन कात्युशा रॉकेट दागे जहां अमेरिकी वाणिज्य दूतावास भी स्थित है। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि हमला किसने किया। हमला स्थानीय समयानुसार सुबह लगभग आठ बजे हुआ। हालांकि, इसमें कोई हताहत नहीं हुआ और न ही उड़ानों पर असर पड़ा। अधिकारियों ने कहा कि हमले की अब तक किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है। 
PunjabKesari
अमरीकी सरकार ने भी हमले की निन्दा की और एक बयान में ईरान का नाम लिए बिना कहा कि अमेरिका बसरा में शनिवार को हुई घटना सहित राजनयिकों पर हमले की आलोचना करता है। प्रदर्शनकारियों ने ईरान सर्मिथत असाइब अहल अल हक शिया मिलिशिया के मुख्यालय को जलाने की कोशिश की जहां तैनात सुरक्षार्किमयों ने गोली चलाई। आक्रोशित प्रदर्शनकारी शिया सुरक्षार्किमयों की पहरेदारी वाले राष्ट्रपति भवन की तरफ बढ़े और वहां घुसने की कोशिश की। एक स्वास्थ्य अधिकारी के अनुसार सुरक्षार्किमयों की तीन कार प्रदर्शनकारियों के बीच घुस गईं जिससे एक व्यक्ति की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए। अन्य प्रदर्शनकारियों ने सड़कों और राजमार्गों पर टायर जलाए और कफ्र्यू का उल्लंघन किया।            
 PunjabKesari
 

 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED इदलिब पर हवाई हमला होगा या रासायनिक, संदेह बरकरार