सड़क का काम बीच में ही छोड़ा अधूरा!

फरीदाबाद(दीपक पांडेय):नगर निगम की सख्ती के बावजूद भी ठेकेदार सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। सीएम अनाउंसमेंट के काम भी लपरवाही बरती जा रही है। वहीं नगर निगम के अधिकारी भी इससे अनजान बने हुए हैं। एनआईटी स्थित पैरिफेरी रोड का निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदार ने सड़क के बीच में डिवाइडर बनाने का काम शुरू किया है। लेकिन स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया है कि जो डिवाइडर बनाई जा रही है वह काफी कमजोर है।

वह जल्द टूट जाएगी। क्योंकि डिवाइडर बनाने से पहले बेस नहीं बनाया जा रहा है। पुरानी टाइलों के ऊपर ही सीमेंटेड डिवाइडर बना दी जा रही है। लोगों ने इसकी जांच की मांग की है।नगर निगम ने एनआईटी के चारों तरफ से गुजरने वाली पैरिफेरी रोड को चौड़ा कर खूबसूरत बनाने का काम पिछले साल शुरू किया था। इसके तहत नीलम चौक से बाटा होते हुए हार्डवेयर चौक, हार्डवेयर चौक से बीके चौक होते हुए दयानंद कॉलेज एनआईटी पांच नंबर शहीद भगत सिंह चौक व शहीद भगत सिंह चौक से नीलम चौक तक की सड़क आती है।

102 करोड़ रूपये की लागत से सड़क चौड़ी करने के अलावा ड्रेनेज लाइन का निर्माण करना, साइकल ट्रैक बनाना, फुटपाथ, सर्विस रोड आदि का निर्माण करना है। जिस ठेकेदार को ये काम सौंपा गया है उसने सड़क को चौड़ा करने का काम पूरी तरह से पूरा कर लिया है, अब कुछ जगहों पर ड्रेनेज बनाने और डिवाइडर निर्माण का कार्य चल रहा है।  एनआईटी पांच नंबर में रहने वाले रविंद्र, मुकेश ने बताया कि ठेकेदार बीके चौक से दयानंद कॉलेज वाली रोड पर डिवाइडर बनाने का काम शुरू किया हुआ है।

ये डिवाइडर सीमेंटेड बनाए जा रहे हैं। लेकिन जो डिवाइडर पुरानी बनी हुई है उसे नहीं उखाड़ा गया है। अगर कायदे से देखा जाए तो पुरानी डिवाइडर को उखाड़ कर उसकी टाइल स्टोरी में जमा करानी होती है लेकिन ठेकेदार ऐसा नहीं कर रहा है। वहीं डिवाइडर बनाने के लिए जमीन को खोद कर बेस भी नहीं बनाया जा रहा है। पुरानी टाइल के ऊपर ही सीमेंटेड का लेप लख कर डिवाइडर बनाई जा रही है, जो पूरी तरह से कमजोर है। ये डिवाइडर जल्द टूट भी सकती है। जैसा की डबुआ- पाली रोड पर देखने को मिल रहा है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!