‘दुष्कर्मी’ से यूं लिया था बदला

लॉरिना और जॉन वायने बोबिट का रोमांस 10 महीने तक ही चला, जब 20 वर्षीय नख-प्रसाधक का सामना वास्तविकता से हुआ। 30 वर्ष बाद लॉरिना बताती है कि, ‘‘एक महीने के अंदर उसने मेरे पेट में मुक्का मारा। तब हम शादीशुदा जोड़े के रूप में अपना जीवन शुरू कर रहे थे। हम वाशिंगटन डी.सी. के रैस्टोरैंट में सैलीब्रेट करने गए थे और उसने वहां केवल शराब पी।’’ 

उस रात वापस घर आते समय ‘‘वह बहुत तेज गति से गाड़ी चला रहा था और मैं डर गई थी। हाइवे पर कार असंतुलित होकर दाएं-बाएं जा रही थी और वह 85 मील प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही थी। लोग हमारा मजाक उड़ा रहे थे और तब मैंने स्टीयरिंग अपने हाथ में ले लिया, जिस पर उसने मुझे मुक्का मारा। यह पहला अवसर था।’’ लॉरिना बताती है कि अगले 4 वर्ष शारीरिक, यौन तथा मानसिक शोषण से भरे हुए थे, जिसका अंत 23 जून 1993 को हुआ जब जॉन रात भर बाहर रह कर मनासास, वर्जीनिया स्थित अपने घर लौटा तथा एक बार फिर उससे दुष्कर्म किया (जॉन ने हमेशा लॉरिना का शोषण करने के आरोप से इंकार किया है तथा उसे उसी वर्ष बाद में हिंसा के आरोप से बरी कर दिया गया था)। इसके बाद वह पानी का गिलास लेने गई तथा उसे रसोई में चाकू पड़ा मिला। 

1990 के शुरूआती दशक को जानने वाला हर व्यक्ति जानता है कि उसके बाद क्या हुआ। बॉबिट अपने बैडरूम में लौटी जहां उसका पति नशे की हालत में लेटा हुआ था और उसने उसका प्राइवेट पार्ट काट दिया। लास एंजल्स के एक होटल बार में बैठी 49 वर्षीय लॉरिना में अब उस लड़की की केवल एक झलक मात्र है, जो तब 20 वर्ष की जवान लड़की हुआ करती थी, जो उस पर चलाए गए मुकद्दमे के दौरान दुनिया भर में मशहूर हो गई थी। अब इस घटना को 25 साल हो चुके हैं। बातचीत के दौरान मेरे चेहरे पर हैरानी की झलक देख कर लॉरिना हंसती है, जिसका कारण मैंने उससे कभी नहीं पूछा। वह मुस्कुराते हुए कहती है ‘‘उसने कभी खतरा महसूस नहीं किया।’’ 

पुरानी यादों से उबरते हुए वह कहती है कि वह अब भी उस पर हुई यौन हिंसा को भुला नहीं पाई है। ये काफी परेशानी भरे दिन थे... लेकिन अब मैंने परिस्थितियों से निपटना सीख लिया है। पानी लाते समय चाकू दिखने पर वह भयानक रूप में आ गई। (जनवरी 1994 में वह 20 वर्ष की जेल की सजा से इस आधार पर बच गई क्योंकि उसने अस्थायी तौर पर पागल होने की बात कही थी।)लॉरिना को वह घटना पूरी तरह याद नहीं है लेकिन उसे इतना याद है कि उस घटना के बाद वह बदहवासी की हालत में थी। उसके लिए कार का स्टीयरिंग सम्भालना भी मुश्किल हो रहा था। उसके एक हाथ में चाकू था और दूसरे में बॉबिट का प्राइवेट पार्ट, जिसे उसने ड्राइवर की खिड़की से बाहर फैंक दिया, जिसे जेम्स सेहन नामक यूरोलॉजिस्ट ने 9 घंटे के आप्रेशन के दौरान जॉन को लगा दिया था।-एच. बेन

Related Stories:

RELATED अंधाधुन के बाद ''बदला'' ने ये खिताब किया अपने नाम!