Kundli Tv- इस मंदिर में गणपति हैं नर रूप में विराजमान

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें Video)
वैसे तो गणेश जी के देशभर में कई मंदिर हैं, जहां वह अपने गजरूप में विराजमान हैं। भगवान शिव ने क्रोध में आकर भगवान गजानन का सिर धड़ से अलग कर दिया था जिसके बाद उनको गजराज (हाथी) का मुख लगाया गया, तब से उनकी इसी रूप में पूजा होती है। लेकिन आज हम आपको एेसे मंदिर में बताने जा रहे हैं, जहां भगवान गणेश जी गजरूप नही बल्कि अपने नररूप में विराजमान हैं। जी हां तमिलनाडु के कुटनूर से लगभग 2 कि.मी. की दूरी पर तिलतर्पण पुरी नाम की एक जगह है, यहीं पर भगवान गणेश का यह आदि विनायक मंदिर है। जहां भगवान गणेश का चेहरा इंसान स्वरूप में स्थापित है। यह दुनिया का एक मात्र मंदिर है जहां भगवान गणेश गजमुखी न होकर इंसान स्वरूप में है।
PunjabKesari
ये भी माना जाता है कि ये ऐसा एक मात्र गणेश मंदिर भी है जहां पितरों की शांति पूजन करने यहां आते हैं। यहां की लोक मान्यता के अनुसार है कि इस जगह पर भगवान श्रीराम ने भी अपने पूर्वजों की शांति के लिए पूजा की थी। जिस परंपरा के चलते आज भी कई भक्त यहां पूर्वजों की शांति के लिए पूजा करने आते हैं।
PunjabKesari
यह मंदिर भले ही बहुत भव्य नही है लेकिन अपनी इस खूबी के लिए देशभर में जाना जाता है। सामान्य रूप से पितृदोष के लिए नदियों के किनारे तर्पण की विधि की जाती  है जिस कारण इस मंदिर का नाम ही तिलतर्पणपुरी पड़ गया है। इस मंदिर के कारण यहां दूर-दूर से लोग अपने पितरों के निमित्त पूजन कराने आते हैं।
PunjabKesari
तिलतर्पण पुरी का अर्थ
इस जगह का नाम तिलतर्पण पुरी पड़ने के पीछे एक खास कारण है। तिलतर्पणपुरी शब्द दो शब्दों के मेल से बना है। तिलतर्पण का अर्थ होता है- पूर्वजों को समर्पित और पुरी का अर्थ होता है- शहर, यानि इस जगह का मतलब ही है पूर्वजों को समर्पित शहर।
क्या आप भी हैं बदनामी के शिकार तो शनिवार को करें ये काम (देखें Video)

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!