Kundli Tv- क्या आपने सुना है इस छोटी काशी के बारे में

ये नहीं देखा तो क्या देखा (देखें VIDEO)

भगवान शंकर की प्रिय नगरी काशी के बारे में तो ज्यादातर लोगों को पता ही होगा। लेकिन आज हम आपको एक एेेसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे छोटी काशी के नाम से जाना जाता है। इतना ही नहीं कहा जाता है कि काशी की ही तरह भगवान शंकर को यह भी स्थान अति प्रिय है। इसके साथ ही इस छोटी काशी का इतिहास रावण के साथ जुड़ा हुआ है। तो यदि आपको भी इस छोटी काशी के बारे में नहीं पता तो आईए जानतें हैं यहां से जुड़ी बातों के बारे में।  


भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के लखीमपुर खीरी जिले में ऐसे बहुत से प्राचीन मंदिर हैं जिनका संबंध रामायण और महाभारत काल से जुड़ा हुआ है। यह स्थान लखीमपुर खीरी से 35 कि.मी की दूरी पर स्थित है। हर साल सावन में लाखों श्रद्धालु अपनी मुरादें मांगते हुए भोलेनाथ के मंदिर में हाज़िरी लगाते हैं। मान्यताओं के अनुसार यहां स्थापित शिवलिंग को सतयुग के समय लंका के राजा रावण द्वारा लाया गया था। तो आईए जानें इस मंदिर की कथा के बारे में-

पौराणिक कथा
लंका के राजा रावण भगवान शिव का बहुत बड़ा भक्त था। उसने भगवान को प्रसन्न करने के लिए 12 वर्षो तक उनकी तपस्या की। उसके तप से प्रसन्न होकर भोलेनाथ ने उसे वरदान मांगने को कहा तो रावण ने उन्हें अपने साथ लंका ले जाने की बात कही।। यह बात सुनकर पुरे देव लोक में भुचाल आ गया। सब मिलकर ब्रह्माजी के पास गए और उनसे निवेदन करके कहने लगे कि अगर भगवान शिव जी रावण के साथ चले गए तो सृष्टि का कार्य कैसे होगा। तब ब्रह्माजी ने सब देवों की बात सुनकर भोलेनाथ से सोच-समझ कर निर्णय लेने को कहा।

भगवान शिव ने रावण से कहा कि मैं तुम्हारे साथ शिवलिंग के रुप में लंका जाने के लिए तैयार हुं। लेकिन एक बात का ध्यान रखना कि मेरा रुप जहां कहीं भी भूमि पर स्पर्श हुआ तो मैं वहीं पर स्थापित हो जाऊंगा। रावण भगवान की इस बात से सहमत हो गया और शिवलिंग रुपी भगवान को लेकर लका की तरफ चल पड़ा। कुछ दूर जानें के बाद भगवान को यह स्थान पंसद आ गया और उन्होंने अपनी माया से रावण में तीव्र लघुशंका की इच्छा जगा दी। रावण को तब बहुत परेशानी का सामना करना पड़ा और वहीं पर एक ग्वाले को आवाज़ लगा कर शिवलिंग उसके हाथों में दे दिया। जिस जगह पर रावण ने लघुशंका की थी, उसी स्थान को सतौती नाम की झील से जाना जाता है।

जब रावण लघुशंका में लीन था, तभी भगवान शिव ने अपना वजन धीरे-धीरे बढ़ाना शुरु कर दिया। जिससे कि उस ग्वाले से शिवलिंग का वजन संभाला नहीं गया और उसने रावण को आवाज़ लगाई, किंतु रावण का ध्यान लघुशंका की तरफ ही रहा। काफी समय प्रतीक्षा के बाद ग्वाला भी थक गया और उसने शिवलिंग वहीं भूमि पर रख दिया। कुछ समय बाद जब रावण ने शिवलिंग को जमीन पर पड़ा देखा तो वह बहुत क्रोधित हुआ, उस ग्वाले के पीछे भागा। तब ग्वाले ने एक कुएं में कूदकर अपनी जान दे दी। परेशान रावण ने शिवलिंग को उठाने का काफी प्रयास किया लेकिन असफल रहा। गुस्से में आकर उसने शिवलिंग को अपने अंगूठे से जोर से दबाया। जिसका निशान शिवलिंग में आज तक विद्यमान है। काफी प्रयास करने पर भी रावण से शिवलिंग नहीं हिल सका और वह वापिस अपनी नगरी लौट गया। 

भगवान शिव ने ग्वाले की आत्मा को बुलाकर कहा कि आज के बाद संसार तुम्हें भूतनाथ के नाम से जानेगा। मेरे दर्शनों के बाद तुम्हारे दर्शन करने वाले भक्तों को विशेष पुण्यलाभ प्राप्त होगा। इसके बाद से वह कुआं भूतनाथ के नाम से विख्यात हुआ और हर साल श्रावण मास और चैत्र मास को भगवान के दर्शनों को आने वाले लाखों भक्तगण शिवलिंग के दर्शनों के बाद बाबा भूतनाथ के भी दर्शन अवश्य करते हैं।

Related Stories:

RELATED Kundli Tv- इस जगह आकर लोग मरना पसंद करते हैं