शिक्षा के क्षेत्र में 26वें से दूसरे स्थान पर पहुंचा राजस्थान

जयपुरःशिक्षा विभाग की ओर से पहली बार राज्यस्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह अमरूदों के बाग में आयोजित हुआ। समारोह के इतिहास में यह पहला मौका था जिसमें 50 हजार शिक्षकों की मौजूदगी में चयनित शिक्षकों को सम्मानित किया गया। समारोह की मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि हमने एक उन्नत, समृद्ध और प्रगतिशील राजस्थान का सपना देखा है जो प्रदेश के सभी शिक्षकों के सहयोग और योगदान से पूरा होगा। 

 

उन्होंने शिक्षकों को नए राजस्थान का आर्किटेक्ट बनने का चैलेंज दिया और कहा कि क्या आप लोग इस चैलेंज को स्वीकार करने को तैयार है। इसके बाद शिक्षकों ने दोनों हाथ उठाकर चैलेंज स्वीकार किया। सीएम ने कहा कि शिक्षक अपने काबिल कंधों पर जिम्मेदारी लेते हुए प्रदेश का भविष्य संवारने का काम करें। सभी शिक्षकों का वंदन करते हुए सीएम राजे ने कहा कि आपकी ही मेहनत और लगन से प्रदेश शिक्षा के क्षेत्र में राजस्थान देशभर में 26वें स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंच गया है। सरकारी स्कूलों में सैकण्डरी बोर्ड परीक्षाओं का परिणाम भी 2013-14 में 58 प्रतिशत से बढकर 2017-18 में 80 प्रतिशत हो गया है। बारहवीं के परिणाम में भी इसी प्रकार बढ़ोतरी हुई है। 

 

परिणाम में बढ़ोतरी का नतीजा है कि आज निजी स्कूलें छोड़कर बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने सरकारी स्कूलों में प्रवेश लिया है। शिक्षकों की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि यह कोई साधारण काम नहीं था, परन्तु शिक्षकों ने अपने घर से दूर रहकर भी शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारने का काम किया। समारोह में शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने विभाग की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला।  

 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!