पुलवामा हमला: आतंकियों ने विस्फोट का तरीका बदला, कर रहे खास चाबी का इस्तेमाल

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में आई.ई.डी. विस्फोट को अंजाम देने के लिए आतंकवादियों ने अपने तरीकों में बदलाव किया है। हाल में आई एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि विस्फोट को अंजाम देने के लिए आतंकवादियों में मोटरसाइकिल और वाहनों की चोरी रोकने में उपयोग होने वाले रिमोट अलार्म या चाबियों के इस्तेमाल की प्रवृत्ति बढ़ी है। आशंका है कि हाल में पुलवामा में सी.आर.पी.एफ. के काफिले पर हमले में इसी तरीके को अपनाया गया हो, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए।

जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद रोधी क्षेत्र में कार्यरत जांच एवं सुरक्षा एजैंसियों द्वारा तैयार रिपोर्ट के अनुसार आतंकवादियों ने रिमोट संचालित आई.ई.डी. विस्फोट के तरीकों को असरदार बनाने के लिए इसमें ‘अचानक बदलाव’ किया है और इसके लिए वे इलैक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे कि मोबाइल फोन, वाकी-टाकी सैट और दोपहिया या चौपहिया वाहनों की चोरी की वारदातों को रोकने में उपयोग होने वाले यंत्रों का इस्तेमाल कर आई.ई.डी. विस्फोट कर रहे हैं।


पुलवामा हमले की जांच कर रहे जांचकर्त्ताओं ने आशंका जताई है कि 14 फरवरी को हुए विस्फोट को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने अंजाम दिया। इस शक्तिशाली विस्फोट को अंजाम देने के लिए रिमोट युक्त चाबी का इस्तेमाल किया गया था। हालांकि सुरक्षा अधिकारियों के अनुसार आतंकवादियों और माओवादियों के बीच सीधे संपर्क होने का अभी कोई ‘ठोस सबूत’ नहीं मिला है।

Related Stories:

RELATED पुलवामा हमले के बाद मारे गए 18 आतंकी, ऑपरेशन रहेगा जारी: सेना