लोक निर्माण विभाग ने कसा शिकंजा, ठेकेदार को 12 लाख का जुर्माना

कुल्लू: सडक़ निर्माण कार्यों में देरी करने वाले ठेकेदारों की अब खैर नहीं होगी। इसके लिए लोक निर्माण विभाग सख्त हो गया है। मणिकर्ण घाटी स्थित शारणी पीणी सडक़ निर्माण कार्यों में देरी करने वाले ठेकेदार पर लोक निर्माण विभाग ने शिकंजा कस दिया है। गौर रहे कि शारनी पीणी सडक़ निर्माण कार्य करीब वर्ष 2012 में आरंभ हो गया था लेकिन इसके बाद सडक़ निर्माण कार्य धीमी गति से चला। शारनी से पीणी तक करीब 16 किलोमीटर सडक़ निर्माण होना है लेकिन ठेकेदार की लेटलतीफी के चलते अभी तक करीब 8 किलोमीटर तक ही सडक़ निर्माण कार्य हो चुका है। जिससे ग्रामीणों में लोक निर्माण विभाग के प्रति भारी रोष पनप गया है। ग्रामीणों ने कई बार सडक़ निर्माण में तेजी लाने के लिए आग्रह किया, लेकिन लोक निर्माण विभाग ने आश्वासन के सिवा कुछ दिया नहीं। 

डेढ़ माह से बंद पड़ा है कार्य

यहीं नहीं करीब डेढ़ माह से फिर सडक़ निर्माण कार्य बंद पड़ा है। इससे ग्रामीणों का गुस्सा सातवें आसमान तक पहुंच गया है। लोक निर्माण विभाग ने सडक़ निर्माण कार्य में देरी करने पर ठेकेदार पर 12 लाख रुपए जुर्माना ठोका है और सख्त हिदायत दी है कि अगर इसके बाद भी सडक़ निर्माण कार्य जल्द आरंभ नहीं किया तो उस ठेकेदार से काम छीन कर दूसरे ठेकेदार को काम दिया जाएगा। लोक निर्माण विभाग शाट के सहायक अभियंता दुष्यंत पाल ने कहा कि शारनी पीणी सडक़ निर्माण में देरी के चलते ठेकेदार पर 12 लाख जुर्माना किया है। उन्होंने कहा कि अब भी अगर सडक़ निर्माण कार्य में तेजी नहीं आई तो ठेकेदार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। 
 

Related Stories:

RELATED सैंपल फेल होने पर भी ठेकेदार की जा रही है पेमेंट