प्रमोशन ने ले ली HDFC बैंक अधिकारी की जान, सहकर्मियों ने रची हत्या की साजिश

नेशनल डेस्क:पांच दिन पहले लापता हुए 39 वर्षीय एक बैंक अधिकारी का शव बरामद कर लिया गया है। उनकी मौत के सिलसिले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के अनुसार यह पेशेवर प्रतिद्वंद्विता का नतीजा जान पड़ता है। पुलिस ने बताया कि 20 वर्षीय कैब ड्राइवर सरफराज शेख उर्फ रईस को एक प्रमुख निजी बैंक के उपाध्यक्ष सिद्धार्थ सांघवी की हत्या करने की कथित रुप से सुपारी दी गयी थी। 

सांघवी पांच सितंबर की शाम से गायब थे। इसे मामले में एक महिला समेत चार लोगों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस उपायुक्त (अपराध) तुषार दोशी ने बताया कि आरोपी ड्राइवर को शुरु में नवी मुम्बई अपराध शाखा ने हिरासत में लिया और उसे मुम्बई पुलिस को सौंप दिया। ड्राइवर नवी मुम्बई के कोपराखैराने का रहने वाला है। सांघवी की हत्या और शव को नष्ट करने की साजिश रचने में उसकी भूमिका पाई गई।

एक अन्य अधिकारी के मुताबिक इस अपराध में इस्तेमाल की गयी कार शेख के घर के पास खड़ी मिली थी। शेख ने बुधवार को सांघवी की कथित तौर पर हत्या कर दी और पड़ोस के जिले ठाणे के कल्याण में हाजी मलंग दरगाह के समीप शव को ठिकाने लगा दिया था। जांच में सामने आया कि सांघवी को बार-बार प्रोमोशन मिलने पर उससे जलन रखने वाले उसके दो सहकर्मियों ने इस साजिश को अंजाम दिया गया। अधिकारी के अनुसार शेख ने दावा किया कि हत्या उसी ने की है और तीन लोगों ने उसे हत्या की सुपारी दी थी। उनमें से दो लोग एचडीएफसी बैंक में काम करते हैं। पु​लिस मामले की जांच कर रही है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!