22 वर्षों के बाद जम्मू कश्मीर में लागू हुआ राष्ट्रपति शासन

जम्मू : जम्मू-कश्मीर में आज से राष्ट्रपति शासन लागू हो हो गया। राज्यपाल सत्यपाल मलिक की सिफारिश के आधार पर राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू हो   गया है, राज्यपाल शासन के छ महीने आज पूरे हो गये। उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को इस बाबत सिफारिशें भेजी थीं। सूत्रों ने बताया कि राज्यपाल ने हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्रालय को राज्य में छह महीने से जारी राज्यपाल शासन की अवधि 19 दिसंबर को समाप्त होने के मद्देेनजर राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश की थी। 

भारतीय जनता पार्टी के पीपुल्स डमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के साथ जारी गठबंधन से समर्थन वापस लेने के बाद 20 जून से राज्य में राज्यपाल शासन लगाया गया था। उस समय तक पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती मुख्यमंत्री के रूप में गठबंधन सरकार चला रही थीं। राज्यपाल शासन के दौरान पिछले छह महीने से विधानमंडल की शक्तियां राज्यपाल में निहित थीं और अब राष्ट्रपति शासन लागू होने के साथ संसद के अधीन हो जाएंगी। इससे पहले श्री एन एन वोहरा ने राज्य प्रशासन का नेतृत्व किया था जिनके स्थान पर 23 अगस्त को श्री मलिक ने राज्यपाल का पदभार ग्रहण किया। श्री मलिक ने विधानसभा में बहुमत साबित करने और अगली सरकार के गठन के मुफ्ती और पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद लोन के दावों और प्रतिदावों के बीच 21 नवंबर को विधान सभा को भंग कर दिया था।

जम्मू-कश्मीर ने 1989 से 1996 के बीच लगभग छह वर्षों की लंबी अवधि तक राष्ट्रपति शासन को देखा है। क्योंकि तत्कालीन मुयमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस (एनसी) के नेता डॉ फारुक अब्दुल्ला ने 1989 में तत्कालीन प्रधानमंत्री वीपी सिंह की सरकार द्वारा राज्य के नए राज्यपाल के रूप में जगमोहन की नियुक्ति के बाद इस्तीफा दे दिया था। डॉ अब्दुल्ला के नेतृत्व में एनसी के दो-तिहाई बहुमत के साथ नयी सरकार के गठन के साथ ही अक्टूबर 1996 में राष्ट्रपति शासन समाप्त हो गया था। 


 

Related Stories:

RELATED TV देखने का नया नियम: जानिए किस चैनल के कितने पैसे चुकाने होंगे और कौन सा होगा फ्री