Iron उद्योग छोड़ रहा जहरीला धुआं, ग्रामीणों की शिकायत पर NGT ने लिया कड़ा संज्ञान

पांवटा साहिब (सतीश): उपमंडल पांवटा साहिब के तहत धौलाकुआं के समीप रामपुर-माजरी में चल रहे वैली आयरन उद्योग के प्रदूषण ने स्थानीय लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। इंसानों ही नहीं, बल्कि पशुओं के लिए भी उद्योग से निकलने वाला जहरीला धुआं खतरनाक साबित हो रहा है। इतना ही नहीं, लोगों के घरों की दीवारें, फर्श व खुले में रखा पानी तक काला पड़ रहा है। ग्रामीणों की शिकायत पर इस पूरे मामले में एन.जी.टी. ने जिला प्रशासन से रिपोर्ट तलब की है।

डी.सी. सिरमौर ने लिया उद्योग का जायजा

दरअसल उद्योग में किसी तरह की तारें जलाई जा रही है, जिससे क्षेत्र में काफी प्रदूषण फैल रहा है। इससे फसलों पर भी विपरित असर पड़ रहा है। इंसानों सहित पशुओं को भी विभिन्न बीमारियों का खतरा बना हुआ है। बार-बार सरकार, जिला प्रशासन सहित संबंधित विभागों से शिकायत करने पर जब कुछ नहीं बना तो ग्रामीणों ने इस मामले में सीधे एन.जी.टी. में शिकायत की, जिस पर एन.जी.टी. ने सिरमौर जिला प्रशासन से रिपोर्ट तलब की है। इसके बाद डी.सी. सिरमौर ने क्षेत्र में पहुंचकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनीं और संबंधित उद्योग का भी जायजा लिया। ग्रामीणों ने तुरंत प्रभाव से डी.सी. से इस उद्योग की समस्या के समाधान की मांग की है।

प्रदूषण से पैदा हो रहीं कैंसर जैसी बीमारियां

ग्रामीणों का कहना है कि वैली आयरन उद्योग से भारी मात्रा में प्रदूषण फैल रहा है, जिससे जनजीवन पर विपरीत असर पड़ रहा है और फसलों का भी नुक्सान हो रहा है। मुख्यमंत्री से लेकर जिला प्रशासन तक इस मामले में शिकायत की गई लेकिन अब तक कुछ नहीं बना। ग्रामीणों का कहना है कि संबंधित उद्योग से निकलने वाला प्रदूषण एक बहुत बड़ा मुद्दा बन गया है। संबंधित उद्योग में प्रदूषण को नियंत्रण करने वाला प्लांट तक नहीं चलाया जाता है। अगर लगे हैं तो आधे-अधूरे प्लांट। प्रदूषण से कैंसर जैसी बीमारियां पैदा हो रही हैं। उन्होंने कहा कि यदि जल्द उद्योग पर कार्रवाई नहीं हुई तो ग्रामीण उग्र आंदोलन करेंगे।

एन.जी.टी. में विचाराधीन मामले पर टिकी नजरें

कुल मिलाकर सालों से उद्योग द्वारा प्रदूषण फैलाने की शिकायतें तो मिल रही हैं लेकिन ग्रामीणों की समस्या का कोई हल नहीं निकल रहा है, ऐसे में अब नजरें एन.जी.टी. में विचाराधीन मामले पर टिकी हैं।

Related Stories:

RELATED पश्चिम बंगाल हिंसा: पीयूष गोयल ने की राष्ट्रपति से संज्ञान लेने की मांग