पीरामल एंटरप्राइजेस की सेरिडॉन टैबलेट प्रतिबंधित सूची से बाहर

नई दिल्लीः दवाई बनाने वाली कंपनी पीरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने दर्द निवारक टैबलेट सेरिडॉन को प्रतिबंधित दवाओं की सूची से बाहर निकाल दिया है।कंपनी ने कहा, कि सुप्रीम कोर्ट ने सितंबर 2018 में पिरामल के सेरिडॉन पर प्रतिबंध पर रोक लगा दी थी जिससे उसे इस एफडीसी के विनिर्माण, वितरण और बिक्री को जारी रखने की स्वीकृति मिली। पीरामल एंटरप्राइजेस ने कहा कि सेरिडॉन पिछले 50 साल से भारत में की हेरीटेज ब्रांड है जिस पर ग्राहक विश्वास करते हैं।

कंपनी की कार्यकारी निदेशक नंदिनी पिरामल ने कोर्ट के आदेश पर कहा, ‘हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश से खुश हैं। यह भारतीय उपभोक्ताओं की विशिष्ट जरूरतों के लिए प्रभावी तथा सुरक्षित चिकित्सा समाधान मुहैया कराने की हमारी प्रतिबद्धता को साबित करता है। हमें भरोसा है कि कानून हमारे पक्ष में रहेगा। सरकार ने पिछले साल सितंबर में सेरिडॉन समेत 328 एफडीसी को प्रतिबंधित सूची में डाल दिया था।

पीरामल ने कहा कि वो अपने हेल्थकेयर प्रोडक्ट के पोर्टफोलियो को बढ़ाती रहेगी। कंपनी 2020 तक देश की टॉप 3 ओवर दि काउंटर प्रोडक्ट कंपनियों में आना चाहती है। कंपनी के मुताबिक देश में एनेलजेसिक बाजार 6450 करोड़ रुपए का है। इसमें एनेलजेसिक टैबलेट का बाजार दिसंबर 2018 तक 2050 करोड़ रुपए का था। पीरामल एंटरप्राइजेस के मुताबिक 1 सेकंड में 31 सेरिडॉन बेची जाती है।

Related Stories:

RELATED MWC 2019: Lenovo ने 5,180 एमएएच की बैटरी के साथ पेश किया नया टैबलेट