पैरेंट्स ने दी नौनिहालों को स्कूल न भेजने की चेतावनी

नई दिल्ली : छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिले में एक शासकीय स्कूल में पढ़ रहे बच्चों के अभिभावकों ने स्कूल भवन की जर्जर हालत को लेकर बच्चों को स्कूल न भेजने के लिए चेतावनी दी है। जिले के देवभोग ब्लॉक के ग्राम अमाड स्थित प्राथमिक शाला के छत से बरसात के पानी टपकने के कारण बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो गई है। बीस साल पुरानी स्कूल भवन की हालत जर्जर हो गई है। इस अव्यवस्था को देख पालकों ने स्कूल बहिष्कार की चेतावनी दी है।  पालकों ने स्कूल भवन की जर्जर स्थिति और इसकी मरम्मत करने की मांग को लेकर कई बार शासन प्रशासन से गुहार की है, लेकिन अभी तक कोई सुध लिया गया। लोक सुराज में भी कई बार आवेदन देने के बाद भी कोई हल नही निकला।

पालकों ने एकमत से निर्णय लिया है कि जल्द मरम्मत नहीं किया गया तो बच्चों को स्कूल नहीं भेजेंगे। पालकों को चिंता है कि कहीं छत न गिर जाए। इस संबंध में ब्लॉक शिक्षा अधिकारी प्रदीप शर्मा ने बताया कि स्कूल छत मरम्मत के लिए 25000 हजार रूपये की स्वीकृति दी गई है जल्द कार्य शुरू होगा। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED महिलाओं के लिए पुलिस में नौकरी पाने का मौका, जल्द करें आवेदन