पाक का भारत को MFN दर्जा देने से इंकार, कहा- फिलहाल कोई ईरादा नहीं

लाहौरःपाकिस्‍तान की इमरान खान सरकार ने  भारत को मोस्‍ट फेवर्ड नेशन (MFN) का दर्जा देने से इंकार कर दिया है। पाक के औद्योगिक एवं निवेश सलाहकार अब्‍दुल रजाक दाऊद से यह पूछे जाने पर कि प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा भारत सरकार के साथ शांति वार्ता करने की इच्‍छा के चलते क्‍या भारत को MFN  स्‍टेट्स देने पर सरकार विचार कर रही है, पर उन्होंने  कहा कि फि‍लहाल ऐसी कोई योजना नहीं है।


मंगलवार को एक कार्यक्रम में उन्‍होंने बताया कि पाकिस्‍तान अन्‍य देशों विशेषकर चीन के साथ मुक्‍त व्‍यापार समझौता करने की योजना पर काम कर रहा है और उम्‍मीद है कि चीन के साथ दूसरा मुक्‍त व्‍यापार समझौता जून 2019 तक हो जाएगा। बता दें कि पाकिस्‍तान ने जहां चीन पर अपना भरोसा जता है वहीं अभी तक भारत को MFN का दर्जा नहीं दिया है । उसने 1209 उत्‍पादों की एक निगेटिव लिस्‍ट बनाकर रखी है, जिनको भारत से आयात करने की अनुमति नहीं है। विश्‍व व्‍यापार संगठन के नियम के मुताबिक WTO के प्रत्‍येक सदस्‍य को दूसरे सदस्‍य देश को MFN का दर्जा देना जरूरी है।

भारत पहले ही पाकिस्‍तान सहित सभी WTO सदस्‍यों को यह दर्जा प्रदान कर चुका है। MFN स्‍टेट्स के तहत एक डब्‍ल्‍यूटीओ सदस्‍य देश को गैर-भेदभावपूर्ण तरीके से अन्‍य व्‍यापारिक देशों के साथ व्‍यापार करने के लिए बाध्‍य किया जाता है, विशेषकर सीमा शुल्‍क और अन्‍य शुल्‍कों के संबंध में। पाकिस्‍तान ने भी तक भारत को MFN का दर्जा प्रदान नहीं किया है।

पाकिस्‍तान ने भारत से निर्यात के लिए केवल 137 उत्‍पादों को ही अनुमति दे रखी है, जो वाघा बॉर्डर के जरिए यहां भेजे जाते हैं। भारत और पाकिस्‍तान के बीच 2016-17 में द्विपक्षीय व्‍यापार 2.28 अरब डॉलर का था। भारत प्रमुख रूप से कपास, डाइ, रसायन, सब्जियां और लौह और इस्‍पात का निर्यात पाकिस्‍तान को करता है, ज‍बकि पाकिस्‍तान से फल, सीमेंट, चमड़ा, रसायन और मसाले आयात करता है।
 

Related Stories:

RELATED मुख्य बाजार में नहीं सुधर पाएगी जाम की स्थिति