BRO की अनुमति के बाद खुले रोहतांग सुरंग के द्वार, सैंकड़ों लोग हुए आर-पार

मनाली: कई दिनों से घर जाने को तैयार बैठे बर्फ में कैद लाहौल के सैंकड़ों लोगों को राहत मिल गई है। बी.आर.ओ. ने लोगों के लिए रोहतांग सुरंग के द्वार खोल दिए हैं। कुल्लू-मनाली की ओर से अब तक 7 बसों में 350 के लगभग लोग लाहौल की ओर भेजे गए हैं जबकि 100 के लगभग लोग लाहौल की ओर से मनाली आए हैं।  बी.आर.ओ. द्वारा अनुमति मिलने के बाद आज लाहौल के सैंकड़ों लोग अपनों से मिल पाए हैं। कई लोगों ने फरवरी महीने से हवाई सेवा में आवेदन किया था लेकिन सर्दियों में अधिकतर समय मौसम खराब रहने से लोग हवाई सेवा का लाभ नहीं उठा पाए। लोकसभा चुनाव नजदीक आते देख लोगों को उम्मीद थी कि उनके लिए रोहतांग सुरंग खोली जाएगी। लाहौल-स्पीति प्रशासन ने लोगों की इस समस्या को गंभीरता से लिया।

डी.सी. लाहौल बी.आर.ओ. के साथ वार्ता कर बनाई रणनीति

डी.सी. लाहौल अश्वनी कुमार चौधरी स्वयं मनाली आए और बी.आर.ओ. के साथ वार्ता कर लोगों को सुरंग के रास्ते घर भेजने की रणनीति बनाई। बैठक में तय हुआ कि पहले चुनाव सामग्री लाहौल भेजी जाएगी और उसके साथ उन लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी जिन लोगों ने हवाई सेवा के लिए आवेदन किया है। गत शनिवार को बी.आर.ओ. के ए.डी.जी. मनाली दौरे पर आए। उन्होंने रोहतांग सुरंग के कार्य का जायजा लेने के साथ-साथ लोगों को रोहतांग सुरंग से भेजने बारे भी चर्चा की। अधिकारियों ने लोगों को सुरंग से भेजने का प्लान बनाया। देर शाम बी.आर.ओ. ने लाहौल-स्पीति प्रशासन को संदेश भेजा कि कल कुछ लोगोंको सुरंग से आर-पार कर सकते हैं।

7 बसों द्वारा भेजे गए साढ़े 350 लोग

आर.एम. केलांग मंगल चंद मनेपा ने बताया कि कुल्लू-मनाली से एच.आर.टी.सी. की दो चरणों में 7 बसों द्वारा साढ़े 350 लोगों को भेज दिया गया है। कुल्लू से गई बसों ने लोगों को रोहतांग सुरंग के साऊथ पोर्टल धुंधी में पहुंचाया। वहां से बी.आर.ओ. के वाहनों से लोग लाहौल की ओर नॉर्थ पोर्टल में पहुंचे। नॉर्थ पोर्टल के पास सिसु तक केलांग से बसें आई हैं। इन बसों में लोग अपने घरों में पहुंचे। लोगों को यथासंभव सुविधा दी जा रही है।

Related Stories:

RELATED रॉबर्ट वाड्रा ने विदेश जाने की मांगी अनुमति