आॅनलाइन डेटिंग कंपनियां भारत में कर रही खूब कमाई, दिल टूटने से होता है काफी फायदा

नई दिल्लीः वर्ष 2011 की जणगणना के अनुसार भारत में 8 करोड़ से अधिक लोग अविवाहित हैं जो पार्टनर की तलाश में हैं। आॅनलाइन डेटिंग की सुविधा उपलब्ध करवाने वाली कंपनियों को इस संख्या में अपने संभावित उपभोक्ता नजर आए और देखते ही देखते भारत आॅनलाइन डेटिंग के लिए भी एक बड़ा बाजार बन गया। 

PunjabKesari2011 से ही अमेरिका और बाकी पश्चिमी देशों में आॅनलाइन डेटिंग का चलन अपने उफान पर था और टिंडर, ओकेक्यूपिड जैसे स्टार्टअप्स ने इस दौरान जमकर पैसा बनाया। इन ऐप्स के जरिए लोगों को दोस्त, पार्टनर, पति-पत्नी भी आसानी से मिले। 

हालांकि भारत के लिए आॅनलाइन डेटिंग का बाजार शुरू में अच्छा नहीं माना जा रहा था। आज देश में टिंडर, ट्रूलीमैडली, आईक्रशआईफ्लश, आय्ल जैसे ऐप्स ने 8 करोड़ से ज्यादा लोगों का बाजार अपने लिए तैयार किया है और इस संख्या को ध्यान में रखकर ही आॅनलाइन डेटिंग के बिजनेस मॉडल्स तैयार किए जा रहे हैं। 

PunjabKesariआॅनलाइन डेटिंग का बाजार लगभग 60 करोड़ डॉलर
मार्कीट रिसर्चर स्टैटिस्टा के अनुसार, 2011 की जनसंख्या में बताए गए आंकड़ों से लगभग आधी संख्या 2018 में आॅनलाइन डेटिंग कंपनियों की उपभोक्ता बन चुकी है और इसके जरिए 2018 में की कमाई 1 करोड़ डॉलर से ज्यादा रही है। स्टैटिस्टा ने ये भी बताया कि आने वाले 4 सालों में इसके रेवेन्यू में 10 प्रतिशत से अधिक इजाफे की उम्मीद है। हालांकि ये संख्या अमेरिका से कम है जहां आॅनलाइन डेटिंग का बाजार लगभग 60 करोड़ डॉलर है। 

PunjabKesariलड़के इस प्लैटफॉर्म का करते हैं ज्यादा इस्तेमाल
आने वाले समय में आॅनलाइन डेटिंग कंपनिया स्थानिय भाषाओं में भी अपने प्रॉडक्ट्स लॉन्च करेंगी जिससे इस बाजार को और तेजी देखने को मिलेगी। ट्रूलीमैडली जैसे ऐप्स यह दावा करते हैं कि उनके अधिकतर यूजर्स 'टॉप 10' शहरों से आते हैं, जिनमें स्टूडेंट्स, नौकरीपेशा लोग आदि शामिल हैं। भारत में लड़के इस प्लैटफॉर्म का इस्तेमाल लड़कियों की तुलना में ज्यादा करते हैं। उनका यह भी मानना है कि भारतीय भाषाओं में ऐप्स को लॉन्च करके इस संख्या में आसानी से बढ़ोतरी की जा सकती है और यह भी संभव है कि 2022 तक आॅनलाइन डेटिंग कंपनियों के बाजार में दोगुनी तेजी आ जाए। 

ऐसे भी होता है इन ऐप्स को फायदा
हालांकि दिल टूटने से भी इन ऐप्स को काफी फायदा होता है क्योंकि ऐसा होने पर यूजर दोबारा ऐप को इस्तेमाल करता है और कंपनियों को इससे फायदा होता है। एक बार स्थाई साथी मिल जाने पर यूजर ऐप का इस्तेमाल बंद कर देता है जो कंपनी के लिए घाटे का सौदा है लेकिन यह एक ऐसा रिस्क है जिस पर आॅनलाइन डेटिंग का पूरा बाजार ही टिका हुआ है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!