चीन में ईसाइयों को धर्म छोड़ने का आदेश;  बंद कराए चर्च, बाइबिल जलाईं

बीजिंगः चीन में अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव और अन्याय बढ़ता जा रहा है। उईगर मुस्लिमों के बाद अब ईसाई भी चीनी सरकार के निशाने पर हैं। चीन की राजधानी बीजिंग समेत कई शहरों में अफसरों ने ईसाइयों के लिए हिटलरी फरमान जारी करते हुए बाइबिल जलाईं, होली (पवित्र) क्रॉस तोड़े और कई चर्च बंद करा दिए। ईसाई लोगों से एक पेपर पर दस्तखत कराए गए, जिसमें कहा गया था कि वे अपना धर्म छोड़ देंगे। यह जानकारी पादरियों और चीन के अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े एक ग्रुप ने दी।


बता दें कि बीते दिनों चीन सरकार ने एक मस्जिद गिराने के आदेश दिए थे, लेकिन मुस्लिमों के प्रदर्शन के चलते आदेश वापस ले लिया था। कुछ समय पहले वहां सिखों को पगड़ी उतारने के लिए मजबूर करने व मस्जिद को गिराने का आदेश दिया गया था। सरकार के इस आदेश से चीन के अल्पसंख्यकों व मुस्लिमों में आक्रोश फैल गया था और इस फैसले के विरोध में हजारों लोग सड़कों पर उतर आए थे।
दरअसल, चीन में जो भी नए मस्जिद बन रहे हैं, वे पुराने चीनी स्टाइल से अलग है। इन नए मस्जिदों के ऊपर प्याज के आकार का गुंबद बनाया जा रहा है, जो आम चीनियों के साथ-साथ राष्ट्रपति शी जिनपिंग को भी पसंद नहीं है। इस वजह से चीनी अधिकारियों ने इस मस्जिद को गिराने का आदेश दे दिया था।

 

 

Related Stories:

RELATED कोरियाई सम्मेलन में सार्थक परमाणु निरस्त्रीकरण की उम्मीद है:अमरीकी अधिकारी