ऑफ द रिकार्ड: सुमित्रा महाजन को फिर मिल सकता है मौका

नेशनल डेस्क:भाजपा ने अभी तक करीब 10 वरिष्ठ नेताओं को टिकट देने से मना कर दिया है जो 75 से ज्यादा उम्र के हो गए हैं। इन नेताओं में लाल कृष्ण अडवानी, भगत सिंह कोश्यारी, बी.सी. खंडूरी, हुकम देव यादव, भोज्य चक्रवर्ती, बंसी लाल महंतो, शांता कुमार को उम्र के चलते टिकट नहीं दिया गया। इनके बाद एम.एम. जोशी, करिया मुंडा के टिकटों पर तलवार लटकी है। 


कलराज मिश्र ने बढ़ी हुई उम्र के चलते 2 साल पहले अपना मंत्री पद खो दिया था, अब वह अपने बेटे के लिए टिकट चाह रहे हैं लेकिन सुमित्रा महाजन जो इंदौर से 9 बार सांसद रह चुकी हैं, उम्र के इस मिथ को तोड़ सकती हैं। पिछले सप्ताह केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में उनके नाम पर मोहर लगा दी गई है। उनकी सीट को लेकर अब औपचारिक घोषणा पार्टी के राज्याध्यक्ष अमित शाह द्वारा की जानी बाकी है। कुछ खास सीटों जैसे विदिशा, भोपाल, ग्वालियर और अन्य सीटों पर भी अभी फैसला होना है। 

इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि 75 साल से ज्यादा उम्र का नियम सुमित्रा महाजन पर लागू होता दिख नहीं रहा है। ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र तोमर जो कि ग्वालियर से सांसद हैं, उन्हें इस बार मुरैना भेजा जा रहा है। मुरैना के सांसद अनूप मिश्रा की टिकट पार्टी ने काट दी है। मिश्रा अटल बिहारी वाजपेयी के भतीजे हैं। वह इस बार विधानसभा चुनाव लड़े थे और हार गए इसलिए हाईकमान ने इस बार उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया। 

Related Stories:

RELATED ऑफ द रिकार्ड: कम मतदान होने के बाद आर.एस.एस. हुआ सक्रिय