अॉफ द रिकार्ड: मायावती को मिला नया भाई

लखनऊ: बसपा प्रमुख मायावती को अभय चौटाला के रूप में नया भाई मिला है। हाल ही में मायावती ने उस समय प्रत्येक व्यक्ति को हैरान कर दिया जब वह हरियाणा गईं और इंडियन नैशनल लोकदल (इनैलो) प्रमुख ओम प्रकाश चौटाला के बेटे अभय चौटाला को राखी बांधी। मायावती ने ऐसा कर अन्य पार्टियों को एक बड़ा संकेत दिया कि हरियाणा में इनैलो के साथ उनका गठबंधन एक गम्भीर मामला है।

यद्यपि मायावती ने भाजपा के डॉक्टर मुरली मनोहर जोशी को भी उस समय राखी बांधी थी जब उन्होंने 1993 में सपा के गुंडों के चंगुल से उनको बचाया था और बाद में सरकार बनाने में उनकी मदद की थी मगर उन दिनों को वह याद नहीं करेंगी यद्यपि तीन बार उनके मुख्यमंत्री बनने में उन्होंने अहम भूमिका निभाई।भारी संख्या में जाटों का समर्थन प्राप्त इनैलो मायावती को इसलिए साथ रखना चाहता है कि उनकी मदद से डेढ़ दशक के बाद वह राज्य में फिर से सत्ता प्राप्त कर सके। राज्य में अनुसूचित जाति के मतों का लगभग 19 प्रतिशत वाल्मीकियों के खाते में है।

पिछली बार इनैलो ने 1998 में बसपा के साथ उस समय हाथ मिलाया था जब ओम प्रकाश चौटाला नेता थे। इनैलो तब हरियाणा लोकदल (राष्ट्रीय) के रूप में जाना जाता था और उसने हरियाणा में लोकसभा की 7 सीटों पर चुनाव लड़ा था, उनमें से 4 में जीत हासिल की थी। बसपा ने 3 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए थे। वह केवल अम्बाला (सुरक्षित) सीट ही जीत पाई थी। मायावती को हरियाणा से लोकसभा में अपना खाता खोलने की उम्मीद है और वह उत्तर प्रदेश के चुनाव अभियान में चौटालों की मदद ले सकती हैं।

Related Stories:

RELATED मुझे उम्मीद ही नहीं बल्कि भरोसा है कि लोकसभा चुनाव में गठबंधन होगाः राज बब्बर