एनआरसी बेहद महत्वपूर्ण कदम: अमित शाह

नई दिल्लीःभारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के समापन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि पार्टी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार और असम सरकार को वर्षों से लंबित राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर(एनआरसी) के वायदे को पूरा करने के लिए बधाई देती है।

PunjabKesari

शाह ने सत्र को संबोधित करते हुए यहां कहा कि यह देश की सुरक्षा और असम की आर्थिक,राजनैतिक तथा सांस्कृतिक अधिकारों के लिए बेहद महत्वपूर्ण कदम है। देश के आजाद होने से पहले ही असम में बड़ी संख्या में घुसपैठ शुरू हो गया था। आजादी के बाद भी यह सिलसिला बदस्तूर जारी रही, क्योंकि राज्य सरकारों में इसे रोकने की इच्छा शक्ति नहीं थी। बड़ी संख्या में घुसपैठ के कारण ही असम की जनता को सड़कों पर उतराना पड़ा।  उन्होंने कहा कि घुसपैठ के विरूद्ध असम के लोगों ने वर्ष 1979 से 1985 के बीच ऐतिहासिक आंदोलन शुरू किया।खास कर, ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन के नेतृत्व में छात्र और युवाओं ने घुसपैठ के खिलाफ जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। इस आंदोलन के दौरान आठ सौ लोगों को प्राण भी न्यौछावर करने पड़े।

PunjabKesari

शाह ने कहा कि भाजपा ने1980 में अपनी स्थापना के समय से ही असम के लोगों के इस ऐतिहासिक संघर्ष को समर्थन दिया और आंदोलन में सक्रिय रूप से शामिल रही। वर्ष 2013 में उच्चतम न्यायालय ने केन्द्र सरकार को असम के लिए एनआरसी पर काम शुरू करने का आदेश दिया था। लेकिन पूर्ववर्ती केन्द्र सरकारों की इच्छा शक्ति में कमी के कारण इस पर काम नहीं किया गया।

PunjabKesari

मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के तुरंत बाद वैज्ञानिक और पारदर्शी तरीके से इस प्रक्रिया को शुरू किया गया और अंतिम प्रारूप 31 जुलाई 2018 को पूरा हुआ। उन्होंने कहा कि सरकार असम और उसके नागरिकों के हितों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही, सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि कोई भी भारतीय नागरिकता से वंचित नहीं रहे। उन्होंने कहा, हम एनआरसी पर विपक्षी दलों की ओलोचना की कड़ी ङ्क्षनदा करते हैं।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED राष्ट्रीय कार्यकारिणी के समापन पर बोले शाह, 2019 जीते तो 50 सालों तक करेंगे शासन