नकल करने वालों की खैर नहीं,  परीक्षा केंद्र में अब कैमरे के साथ लगेंगे वॉइस रिकॉर्डर

साल 2019 में  होने वाली उत्तर प्रदेश की 10वीं-12वीं बोर्ड की परीक्षाओं का अब से ही कड़ा इंतजाम करवाया जा रहा है। खबर है कि इस बार परीक्षा में नकल से बचने के लिए केंद्र के हर परीक्षा कक्ष में बैक और फ्रंट कैमरे के साथ वॉइस रिकॉर्डर भी लगाए जाएंगे।


उपमुख्यमंत्री  डॉक्टर दिनेश शर्मा ने यह भी कहा ऐसे स्कूल जो पिछले 3 साल से परीक्षा केंद्र नहीं बनाए गए हैं उन्हें भी इस साल परीक्षा केंद्र के लिए शामिल नहीं किया जाएगा। परीक्षा केंद्रों पर स्टेटिक मजिस्ट्रेट तैनात किए जाएंगे और हर परीक्षा कक्ष में बैक और फ्रंट कैमरे के साथ वॉइस रिकॉर्डर भी लगाए जाएंगे।


बता दें, पिछले साल 10वीं-12वीं की बोर्ड परीक्षा 6 फरवरी से 10 मार्च 2018 तक चली थी। अब यूपी बोर्ड परीक्षा का आयोजन फरवरी के महीने तक ही होगा। दरअसरल प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री एंव माध्यमिक-उच्च शिक्षा मंत्री डॉक्टर दिनेश शर्मा के मुताबिक परीक्षाएं जल्दी कराने के पीछे की मंशा बच्चों को त्योहार के मौसम में तनाव से मुक्ति दिलाना है।

बता दें, अभी तक 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं होली के आगे पीछे पड़ती थी जिसकी वजह से बच्चों में काफी तनाव रहता था। डॉक्टर दिनेश शर्मा ने यह भी बताया आगामी परीक्षा में ब्लैक लिस्टेड स्कूलों को किसी भी सूरत में परीक्षा केंद्र नहीं बनाया जाएगा। सभी परीक्षा केंद्रों में निर्धारित क्षमता के आधार पर ही परीक्षार्थियों को बिठाया जाएगा।

इससे पहले पिछले साल बोर्ड की परीक्षा में नकल पर सख्ती और नकल करते हुए पकड़े जाने पर जेल भेजने तक के प्रावधान की वजह से करीब 9 लाख छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी थी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!
× RELATED भारत में लांच हुए तीन नए एक्शन कैमरे, जानें कीमत और फीचर्स