मोदी सरकार ने नारी शक्ति पुरस्कार 2018 के लिए मांगें नामांकन

नई दिल्ली: महिलाओं के सामाजिक एवं आर्थिक सशक्तिकरण में महत्वपूर्ण और उल्लेखनीय योगदान करने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं को सम्मानित करने के लिए सरकार ने ‘नारी शक्ति पुरस्कार 2018’ के नामांकन आमंत्रित किए हैं। केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने आज यहां बताया कि राष्ट्रपति प्रत्येक वर्ष आठ मार्च को ‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस’ के अवसर पर महिलाओं के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘नारी शक्ति पुरस्कार’ प्रदान करते हैं। इस पुरस्कार का उद्देश्य ऐसे व्यक्तियों और संस्थानों की सेवाओं को स्वीकारना और पहचानना है, जिन्होंने महिलाओं के सशक्तिकरण में बहुमूल्य योगदान दिया है।

इस पुरस्कार के माध्यम से ऐसे लोगों को सामने लाना है जिन्होंने युवा पीढ़ी एवं महिलाओं के लिए समाज में बदलाव हेतु एक मानदंड स्थापित किया हो। सरकार ने ऐसे व्यक्तियों और संस्थानों से नामांकन आमंत्रित किये हैं जिन्होंने महिलाओं के आर्थिक और सामाजिक सशक्तिकरण की दिशा में असाधारण परिस्थितियों में भी उत्कृष्ट कार्य किया है और महिलाओं से संबंधित कानूनों को प्रभावी ढंग से कार्यान्वित किया है तथा लैंगिक समानता आदि के लिए भी कार्य किया है।

पुरस्कार के लिए नामांकन भरने की अंतिम तिथि 31 अक्तूबर है। इसकी विस्तृत जानकारी मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने कहा है कि नारी शक्ति पुरस्कार 1999 से प्रदान किए जा रहे हैं और इनको व्यापक स्तर पर प्रतिष्ठा और मान्यता प्राप्त हुई है। इस वर्ष से स्वयं नामांकन भी किये जा सकते हैं। चयन समिति को इस संबंध में विशेष निर्देश दिए गए। छानबीन समिति नामांकन की जांच करेगी और चयनित नामांकनों को अंतिम फैसले के लिए राष्ट्रीय चयन समिति को सौंप देगी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!